Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 May 2017 · 1 min read

सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं

सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं ।
जीवन में अनुपम प्रकाश के रंग भरे, उल्लास सजाएं ।

राष्ट्र हमारा कल गुलाम था
आज स्वयं हम ही गुलाम है।
अवनति- हिंसामय रोगों से,
एंठू है, हम सिर्फ चाम है ।
सोई आत्मा, आँसू गम के,
निकल रहे, कुछ तो शर्माएं।
सद् गणतंत्र सुदिवस मनाएं ।

कहीं लूट,इज्जत औ धन की।
बन बैठे हम हिंसक -सनकी।
जीवित हैं, गह अहंकार को,
चिंता नाहीं इनको जन की ।
स्वयं सुधरिए ,जग सुधरेगा,
नारे को कुछ तो अपनाएं।
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं।

जय-जय, केवल है भाषा में ।
मन ,दूरी की परिभाषा में ।
अंतःकरण मिले ना भैया ।
बुद्धि, प्रेम की अभिलाषा में,
बैठी ,यह अज्ञान तिमिर है ।
दिल-सुबोल को कर्म बनाएंं।
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं।

———‐-‐——–‐———

पं बृजेश कुमार नायक

●उक्त रचना को साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से प्रकाशित मेरी कृति “पं बृजेश कुमार नायक की चुनिंदा रचनाए” के द्वितीय संस्करण के अनुसार परिष्कृत किया गया है।

●”पं बृजेश कुमार नायक की चुनिंदा रचनाए” काव्य संग्रह का द्वितीय संस्करण अमेजोन और फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध है।
🌹🙏🙏🙏🌹

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 1508 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Pt. Brajesh Kumar Nayak
View all
You may also like:
लोग महापुरुषों एवम् बड़ी हस्तियों के छोटे से विचार को भी काफ
लोग महापुरुषों एवम् बड़ी हस्तियों के छोटे से विचार को भी काफ
Rj Anand Prajapati
कहमुकरी
कहमुकरी
डॉ.सीमा अग्रवाल
फूक मार कर आग जलाते है,
फूक मार कर आग जलाते है,
Buddha Prakash
■ हर जगह मारा-मारी है जी अब। और कोई काम बचा नहीं बिना लागत क
■ हर जगह मारा-मारी है जी अब। और कोई काम बचा नहीं बिना लागत क
*Author प्रणय प्रभात*
कई बार हम ऐसे रिश्ते में जुड़ जाते है की,
कई बार हम ऐसे रिश्ते में जुड़ जाते है की,
पूर्वार्थ
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
gurudeenverma198
Rebel
Rebel
Shekhar Chandra Mitra
आज की जेनरेशन
आज की जेनरेशन
ruby kumari
लोभ मोह ईष्या 🙏
लोभ मोह ईष्या 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2888.*पूर्णिका*
2888.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरी तू  रूह  में  बसती  है
मेरी तू रूह में बसती है
डॉ. दीपक मेवाती
पुश्तैनी दौलत
पुश्तैनी दौलत
Satish Srijan
भीड़ में हाथ छोड़ दिया....
भीड़ में हाथ छोड़ दिया....
Kavita Chouhan
बुढ़ापे में हड्डियाँ सूखा पतला
बुढ़ापे में हड्डियाँ सूखा पतला
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
युद्ध घोष
युद्ध घोष
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
" बंध खोले जाए मौसम "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
*दो दिन फूल खिला डाली पर, मुस्काकर मुरझाया (गीत)*
*दो दिन फूल खिला डाली पर, मुस्काकर मुरझाया (गीत)*
Ravi Prakash
सुकर्म से ...
सुकर्म से ...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ज़िन्दगी की तरकश में खुद मरता है आदमी…
ज़िन्दगी की तरकश में खुद मरता है आदमी…
Anand Kumar
उज्जैन घटना
उज्जैन घटना
Rahul Singh
* थके पथिक को *
* थके पथिक को *
surenderpal vaidya
देखते देखते मंज़र बदल गया
देखते देखते मंज़र बदल गया
Atul "Krishn"
💐प्रेम कौतुक-299💐
💐प्रेम कौतुक-299💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जी20
जी20
लक्ष्मी सिंह
"यात्रा संस्मरण"
Dr. Kishan tandon kranti
अहिल्या
अहिल्या
अनूप अम्बर
होकर उल्लू पर सवार
होकर उल्लू पर सवार
Pratibha Pandey
 मैं गोलोक का वासी कृष्ण
 मैं गोलोक का वासी कृष्ण
Pooja Singh
अंतिम साँझ .....
अंतिम साँझ .....
sushil sarna
उम्मीद
उम्मीद
Paras Nath Jha
Loading...