Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2023 · 1 min read

आए बगुला भगत जी, लड़ने लगे चुनाव( हास्य कुंडलिया)

आए बगुला भगत जी, लड़ने लगे चुनाव( हास्य कुंडलिया)
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
आए बगुला भगत जी , लड़ने लगे चुनाव
बोले मुझ में जग रहा ,अब सेवा का भाव
अब सेवा का भाव , वोट मुझको ही देना
बदले में कुछ नोट, और मदिरा ले लेना
कहते रवि कविराय ,सभी उस पर चिल्लाए
तुम ढोंगी-मक्कार, बनाने उल्लू आए
————————————————-
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

310 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
शीर्षक - सोच और उम्र
शीर्षक - सोच और उम्र
Neeraj Agarwal
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
Ranjeet kumar patre
84कोसीय नैमिष परिक्रमा
84कोसीय नैमिष परिक्रमा
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
"संयम"
Dr. Kishan tandon kranti
शिक्षक को शिक्षण करने दो
शिक्षक को शिक्षण करने दो
Sanjay Narayan
खालीपन
खालीपन
करन ''केसरा''
मैं अक्सर उसके सामने बैठ कर उसे अपने एहसास बताता था लेकिन ना
मैं अक्सर उसके सामने बैठ कर उसे अपने एहसास बताता था लेकिन ना
पूर्वार्थ
कुछ कमीने आज फ़ोन करके यह कह रहे चलो शाम को पार्टी करते हैं
कुछ कमीने आज फ़ोन करके यह कह रहे चलो शाम को पार्टी करते हैं
Anand Kumar
"किस बात का गुमान"
Ekta chitrangini
संघर्ष ज़िंदगी को आसान बनाते है
संघर्ष ज़िंदगी को आसान बनाते है
Bhupendra Rawat
खुद्दारी ( लघुकथा)
खुद्दारी ( लघुकथा)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
🙅झाड़ू वाली भाभी🙅
🙅झाड़ू वाली भाभी🙅
*Author प्रणय प्रभात*
जीना है तो ज़माने के रंग में रंगना पड़ेगा,
जीना है तो ज़माने के रंग में रंगना पड़ेगा,
_सुलेखा.
तू  फितरत ए  शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है
तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है
Dr Tabassum Jahan
नवरात्रि के इस पावन मौके पर, मां दुर्गा के आगमन का खुशियों स
नवरात्रि के इस पावन मौके पर, मां दुर्गा के आगमन का खुशियों स
Sahil Ahmad
ग़ज़ल/नज़्म - आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है
ग़ज़ल/नज़्म - आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है
अनिल कुमार
आधुनिक भारत के कारीगर
आधुनिक भारत के कारीगर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
देकर घाव मरहम लगाना जरूरी है क्या
देकर घाव मरहम लगाना जरूरी है क्या
Gouri tiwari
रमेशराज की तेवरी
रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
"Guidance of Mother Nature"
Manisha Manjari
पेट भरता नहीं है बातों से
पेट भरता नहीं है बातों से
Dr fauzia Naseem shad
वो कपटी कहलाते हैं !!
वो कपटी कहलाते हैं !!
Ramswaroop Dinkar
इश्क़ में कोई
इश्क़ में कोई
लक्ष्मी सिंह
3231.*पूर्णिका*
3231.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरी फितरत
मेरी फितरत
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
हिंदी माता की आराधना
हिंदी माता की आराधना
ओनिका सेतिया 'अनु '
*गम को यूं हलक में  पिया कर*
*गम को यूं हलक में पिया कर*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
एक अलग सी चमक है उसके मुखड़े में,
एक अलग सी चमक है उसके मुखड़े में,
manjula chauhan
उसकी हड्डियों का भंडार तो खत्म होना ही है, मगर ध्यान देना कह
उसकी हड्डियों का भंडार तो खत्म होना ही है, मगर ध्यान देना कह
Sanjay ' शून्य'
नारियां
नारियां
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
Loading...