Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Dec 2023 · 1 min read

*आए अंतिम साँस, इमरती चखते-चखते (हास्य कुंडलिया)*

आए अंतिम साँस, इमरती चखते-चखते (हास्य कुंडलिया)
———————
चखते रसगुल्ला रहें , गरम जलेबी रोज
हलवा लड्डू नुकतियाँ ,मिष्ठान्नों के भोज
मिष्ठान्नों के भोज , खीर का भोग लगाएँ
मालपुए है चाह ,काश ! प्रतिदिन मिल जाएँ
कहते रवि कविराय ,यही इच्छा बस रखते
आए अंतिम साँस ,इमरती चखते – चखते
————–
रचयिता : रवि प्रकाश , बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 9997 615451

199 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
2625.पूर्णिका
2625.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
होली
होली
नूरफातिमा खातून नूरी
बेरोजगार लड़के
बेरोजगार लड़के
पूर्वार्थ
ऐसा क्यों होता है..?
ऐसा क्यों होता है..?
Dr Manju Saini
आरती करुँ विनायक की
आरती करुँ विनायक की
gurudeenverma198
मेरी फितरत तो देख
मेरी फितरत तो देख
VINOD CHAUHAN
मौन जीव के ज्ञान को, देता  अर्थ विशाल ।
मौन जीव के ज्ञान को, देता अर्थ विशाल ।
sushil sarna
Two scarred souls and the seashore, was it a glorious beginning?
Two scarred souls and the seashore, was it a glorious beginning?
Manisha Manjari
इन्द्रिय जनित ज्ञान सब नश्वर, माया जनित सदा छलता है ।
इन्द्रिय जनित ज्ञान सब नश्वर, माया जनित सदा छलता है ।
लक्ष्मी सिंह
परिवार, घड़ी की सूइयों जैसा होना चाहिए कोई छोटा हो, कोई बड़ा
परिवार, घड़ी की सूइयों जैसा होना चाहिए कोई छोटा हो, कोई बड़ा
ललकार भारद्वाज
वेलेंटाइन डे
वेलेंटाइन डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तड़के जब आँखें खुलीं, उपजा एक विचार।
तड़के जब आँखें खुलीं, उपजा एक विचार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*श्रद्धा विश्वास रूपेण**
*श्रद्धा विश्वास रूपेण**"श्रद्धा विश्वास रुपिणौ'"*
Shashi kala vyas
राजनीति
राजनीति
Bodhisatva kastooriya
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
Shekhar Chandra Mitra
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
Buddha Prakash
कविता-आ रहे प्रभु राम अयोध्या 🙏
कविता-आ रहे प्रभु राम अयोध्या 🙏
Madhuri Markandy
प्रदूषण-जमघट।
प्रदूषण-जमघट।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दिल
दिल
Dr Archana Gupta
"कंजूस"
Dr. Kishan tandon kranti
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
भारत के बीर सपूत
भारत के बीर सपूत
Dinesh Kumar Gangwar
*पॉंच सदी के बाद देश ने, गौरव का क्षण पाया है (मुक्तक)*
*पॉंच सदी के बाद देश ने, गौरव का क्षण पाया है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
रही प्रतीक्षारत यशोधरा
रही प्रतीक्षारत यशोधरा
Shweta Soni
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
ऋषि मगस्तय और थार का रेगिस्तान (पौराणिक कहानी)
ऋषि मगस्तय और थार का रेगिस्तान (पौराणिक कहानी)
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
छल
छल
गौरव बाबा
नाम बनाने के लिए कभी-कभी
नाम बनाने के लिए कभी-कभी
शेखर सिंह
जिंदगी और जीवन तो कोरा कागज़ होता हैं।
जिंदगी और जीवन तो कोरा कागज़ होता हैं।
Neeraj Agarwal
मौत से किसकी यारी
मौत से किसकी यारी
Satish Srijan
Loading...