Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2023 · 2 min read

आई दिवाली कोरोना में

आई दिवाली कोरोना में ॥
– — — — — – – – – – – –
आज दिवाली आई है
स्वच्छता परिणाम लाई है
कोरोना दानव को डराई है
देख कोविड दीप लड़ी
भागी-भागी दूर खड़ी
मन ही मन बड़बड़ाई है
निडर मानव नहीं घबड़ाई है
इन प्राणी ने मुझे भगाई है ॥
दिवाली के सुअवसर पर ?
डब्लू . एच .ओ ने
स्वेदेशी कोवैक्सीन को
मान्यता दे भारतियों को
वीकेण्ड वैकेसन पर
दूर देश बुलाई है
आज दिवाली आई है
खुशी का संदेश लाई है ॥
भाव विभोर भारत ने
अयोध्या में लाखो दीयें जलाई है
एकता साहस अनुशासन से
अखण्ड भारत में रामराज्य लौटाई है
कोरोना में दिवाली आई है ॥
प्रधानमंत्री की प्रधानी
दूर देश को भायी है
जयकारे की हुंकार से –
दुश्मन देश थराई है
भारत माँ की बिंदिया को
देश विदेश में चमका कर
प्रधान रक्षक कहलाई है
आज दिवाली आई है
स्वच्छता परिणाम लाई है । डरी कोरोना कहती संगी से
चल बहना चल जल्दी चल
भारत छोड़ मायके चल
क्योंकि ?? …
दूर देश से आकर हमनें
खूब तबाही मचाई है
लाशों की रंगोली बनाई है
चलो चलो अब यहाँ से
चलने की बेला आई है ॥
मुंह पर मास्क हाथो मे
सैनीटाइजर अभेद
दस्ताने दो गज की दूरी
दवाई भी कड़ाई भी
दो डोज इनजंक्सन
डोर डोर तक पहुंचाई है
विविध वैक्सीन को अजमा
बूस्टर डोज लगवाई है
घण्डी घण्टा शंख नाद
ताली थाली बजा बजा कर
लाखों दीप जलाई है
कोविडशिल्ड स्वेदेशी कोविन
न जाने कौन कौन सी आयुष
जन जन तक पहुंचाई है
कोरोना में दिवाली आई है ॥
शेष नही अब किस तन पकडूँ
तुलसी लहसुन गोल गिलोय
आदी अदरख सौंफ लौंग खाकर
तन तन में इम्यून बढ़ाई है
योग योगासन सिंह सिंहासन
अकड़ अकड दॉत मुझे दिखाई है
खुशी का जश्न मनाई है
कोरोना में दिवाली आई है
रूठी संगी कहती :
सहस्रवर्षों की प्रतिक्षा से
अवसर आज पाई है
छुपम छुपाई खेल खिलाड़ी
नाम बदल बदल आनी है
शव -शय्या की सेज सजा
परिजनो की बदला लेनी है
अभी नहीं मुझे जानी है ।
झूठी दम्भ तू भरती हो
ज्ञान – विदुषी अन्वेषक
यहाँ के दूरगामी सरकार
बहुयामी अविष्कारों से
मार – मार बेइज्जत कर
हमें भगाने को ठानी है ॥
इससे अच्छा ईज्जत से चल
अपनी गरिमा बचानी है
अलग बसेरा बनानी है
बात समझ में आई है
चलो चलें अब
चलने की बेला आई है
स्वच्छ स्वस्थ्य रहना
खुश रहना भारतवासियों
अब हम तो मायके जाते हैं
मेरी कहर याद कर सावधान रहनी है
कोरोना में दिवाली आई है …

धन्यवाद ।
टी . पी . तरुण
(पुस्तकालयाध्यक्ष )

Language: Hindi
6 Likes · 412 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
किसी को अगर प्रेरणा मिलती है
किसी को अगर प्रेरणा मिलती है
Harminder Kaur
*......हसीन लम्हे....* .....
*......हसीन लम्हे....* .....
Naushaba Suriya
व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपक
व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपक
Rj Anand Prajapati
👌कही/अनकही👌
👌कही/अनकही👌
*प्रणय प्रभात*
भारत में भीख मांगते हाथों की ۔۔۔۔۔
भारत में भीख मांगते हाथों की ۔۔۔۔۔
Dr fauzia Naseem shad
उसे आज़ का अर्जुन होना चाहिए
उसे आज़ का अर्जुन होना चाहिए
Sonam Puneet Dubey
परमेश्वर का प्यार
परमेश्वर का प्यार
ओंकार मिश्र
तनाव ना कुछ कर पाने या ना कुछ पाने की जनतोजहत  का नही है ज्य
तनाव ना कुछ कर पाने या ना कुछ पाने की जनतोजहत का नही है ज्य
पूर्वार्थ
माँ में दोस्त मिल जाती है बिना ढूंढे ही
माँ में दोस्त मिल जाती है बिना ढूंढे ही
ruby kumari
जागो जागो तुम सरकार
जागो जागो तुम सरकार
gurudeenverma198
नव दीप जला लो
नव दीप जला लो
Mukesh Kumar Sonkar
"आए हैं ऋतुराज"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
रात के बाद सुबह का इंतजार रहता हैं।
रात के बाद सुबह का इंतजार रहता हैं।
Neeraj Agarwal
हिंदी दलित साहित्य में बिहार- झारखंड के कथाकारों की भूमिका// आनंद प्रवीण
हिंदी दलित साहित्य में बिहार- झारखंड के कथाकारों की भूमिका// आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
गांव
गांव
Bodhisatva kastooriya
प्रेम की परिभाषा क्या है
प्रेम की परिभाषा क्या है
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी कई मायनों में खास होती है।
चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी कई मायनों में खास होती है।
Shashi kala vyas
Remembering that winter Night
Remembering that winter Night
Bidyadhar Mantry
महाराष्ट्र की राजनीति
महाराष्ट्र की राजनीति
Anand Kumar
मनके मन की साधना,
मनके मन की साधना,
sushil sarna
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जिंदगी की राहे बड़ा मुश्किल है
जिंदगी की राहे बड़ा मुश्किल है
Ranjeet kumar patre
नारियां
नारियां
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
जो दिखाते हैं हम वो जताते नहीं
जो दिखाते हैं हम वो जताते नहीं
Shweta Soni
"सृजन"
Dr. Kishan tandon kranti
23/167.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/167.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ज़िंदगी यूँ तो बड़े आज़ार में है,
ज़िंदगी यूँ तो बड़े आज़ार में है,
Kalamkash
गुरु रामदास
गुरु रामदास
कवि रमेशराज
उनकी जब ये ज़ेह्न बुराई कर बैठा
उनकी जब ये ज़ेह्न बुराई कर बैठा
Anis Shah
चल मनवा चलें.....!!
चल मनवा चलें.....!!
Kanchan Khanna
Loading...