Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 1 min read

आईना

आईना
कभी कभी खुद से भी बात कर लिया करो
आइने में रहकर खुद आइनें से बात कर लिया करों
है कहाँ शक्ल!वो शक्ल कहाँ खो गयी जरा देखा करों
वजुद में कहाँ हम खड़े है कहाँ उठ गये! जरा ये भी खुद में देख लिया करों….
सच कहती हूँ आइने कभी झूठ नहीं बोलते देख लो
हर बनावटी चेहरे का सच उगल देते हैं आइने;देख लो वो लाख चाहे आइने को चुर कर दे वो सच न बदलेंगे
जो दिखा है आज सच हस्ती आइने में! वो चेहरे कभी बदला नहीं करते देख लो….
तुम लाख चाहों अक्स आइने में अपने जैसा हो! मुमकिन नहीं
बनावटी चेहरे का ही सच उगले आइने आज बस! ये सभंव नहीं
चाहे लाख कालिख से पोत लो तुम हर एक वो आइने जो आप मुताबिक नहीं
मगर वो आइने है हुज़ूर हस्ती!जो कालिख से रगं कर भी तुम्हारें वजुद को खोते नहीं…..
इसलिए आइने अपने आइनात को बरकरार रखते हैं
जैसें भी है आजकल आइनें में!उसे वैसे ही सजोंते है
जो देखकर आइनें को खुद!खुद को पढ़ लिया करते हैं
वो ही हिमायती लोग खुद को पहचानने के लिए सदा
अपने आइने को पुछा करते हैं मैं कौन हूँ! …
स्वरचित कविता
सुरेखा राठी

3 Likes · 1 Comment · 439 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हालातों का असर
हालातों का असर
Shyam Sundar Subramanian
स्वामी विवेकानंद ( कुंडलिया छंद)
स्वामी विवेकानंद ( कुंडलिया छंद)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"गर्दिशों ने कहा, गर्दिशों से सुना।
*Author प्रणय प्रभात*
सब की नकल की जा सकती है,
सब की नकल की जा सकती है,
Shubham Pandey (S P)
दीपक माटी-धातु का,
दीपक माटी-धातु का,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नहीं आया कोई काम मेरे
नहीं आया कोई काम मेरे
gurudeenverma198
लेकर सांस उधार
लेकर सांस उधार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
23/132.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/132.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फागुन का महीना आया
फागुन का महीना आया
Dr Manju Saini
हो देवों के देव तुम, नहीं आदि-अवसान।
हो देवों के देव तुम, नहीं आदि-अवसान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ਮਿਲੇ ਜਦ ਅਰਸੇ ਬਾਅਦ
ਮਿਲੇ ਜਦ ਅਰਸੇ ਬਾਅਦ
Surinder blackpen
काश तुम्हारी तस्वीर भी हमसे बातें करती
काश तुम्हारी तस्वीर भी हमसे बातें करती
Dushyant Kumar Patel
" माँ का आँचल "
DESH RAJ
राम संस्कार हैं, राम संस्कृति हैं, राम सदाचार की प्रतिमूर्ति हैं...
राम संस्कार हैं, राम संस्कृति हैं, राम सदाचार की प्रतिमूर्ति हैं...
Anand Kumar
ब्रांड. . . .
ब्रांड. . . .
sushil sarna
रंग भेद ना चाहिए विश्व शांति लाइए सम्मान सबका कीजिए
रंग भेद ना चाहिए विश्व शांति लाइए सम्मान सबका कीजिए
DrLakshman Jha Parimal
Being an ICSE aspirant
Being an ICSE aspirant
Sukoon
*अंतिम समय बीते कहाँ, जाने कहाँ क्या ठौर हो 【मुक्तक】*
*अंतिम समय बीते कहाँ, जाने कहाँ क्या ठौर हो 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
बदी करने वाले भी
बदी करने वाले भी
Satish Srijan
शिव तेरा नाम
शिव तेरा नाम
Swami Ganganiya
क़यामत
क़यामत
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मंजिल की तलाश में
मंजिल की तलाश में
Praveen Sain
संवेदना
संवेदना
Neeraj Agarwal
माँ लक्ष्मी
माँ लक्ष्मी
Bodhisatva kastooriya
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
दानवीरता की मिशाल : नगरमाता बिन्नीबाई सोनकर
दानवीरता की मिशाल : नगरमाता बिन्नीबाई सोनकर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गौरेया (ताटंक छन्द)
गौरेया (ताटंक छन्द)
नाथ सोनांचली
पुलवामा हमले पर शहीदों को नमन चार पंक्तियां
पुलवामा हमले पर शहीदों को नमन चार पंक्तियां
कवि दीपक बवेजा
आलता-महावर
आलता-महावर
Pakhi Jain
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
Loading...