Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2024 · 1 min read

आईना बोला मुझसे

आईना बोला मुझसे
कहाँ गईं वो बोलती आँखें
जो घंटों बतियाती थीं मुझसे
कहाँ गई वो खिलखिलाती हंसी
जो घंटों निहारा करती थी मुझमें
कहाँ गए वो लहराते बाल
जो मेरे सामने अनेक
केश विन्यासों में सजते थे
आज क्या हुआ तुम्हें
वो सब कहाँ खो गया
क्यूँ उदास हो
जाओ फिर पहले सी हो जाओ
सजो-संवरो मुस्कुराओ
खुशियाँ बिखेरो…ज़िंदगी ही तो है…

कंचन”अद्वैता”

43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मूर्ती माँ तू ममता की
मूर्ती माँ तू ममता की
Basant Bhagawan Roy
बात तनिक ह हउवा जादा
बात तनिक ह हउवा जादा
Sarfaraz Ahmed Aasee
खून-पसीने के ईंधन से, खुद का यान चलाऊंगा,
खून-पसीने के ईंधन से, खुद का यान चलाऊंगा,
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
द्रुत विलम्बित छंद (गणतंत्रता दिवस)-'प्यासा
द्रुत विलम्बित छंद (गणतंत्रता दिवस)-'प्यासा"
Vijay kumar Pandey
छोड़ो  भी  यह  बात  अब , कैसे  बीती  रात ।
छोड़ो भी यह बात अब , कैसे बीती रात ।
sushil sarna
आजकल के लोगों के रिश्तों की स्थिति पर चिंता व्यक्त करता है।
आजकल के लोगों के रिश्तों की स्थिति पर चिंता व्यक्त करता है।
पूर्वार्थ
इक तमन्ना थी
इक तमन्ना थी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जर्जर है कानून व्यवस्था,
जर्जर है कानून व्यवस्था,
ओनिका सेतिया 'अनु '
पलक-पाँवड़े
पलक-पाँवड़े
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
2394.पूर्णिका
2394.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तुम तो ख़ामोशियां
तुम तो ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
जो सच में प्रेम करते हैं,
जो सच में प्रेम करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
Empty pocket
Empty pocket
Bidyadhar Mantry
---- विश्वगुरु ----
---- विश्वगुरु ----
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
करवाचौथ
करवाचौथ
Surinder blackpen
I was happy
I was happy
VINOD CHAUHAN
कोई यादों में रहा, कोई ख्यालों में रहा;
कोई यादों में रहा, कोई ख्यालों में रहा;
manjula chauhan
"कैंसर की वैक्सीन"
Dr. Kishan tandon kranti
*जंगल की आग*
*जंगल की आग*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
किसी अंधेरी कोठरी में बैठा वो एक ब्रम्हराक्षस जो जानता है सब
किसी अंधेरी कोठरी में बैठा वो एक ब्रम्हराक्षस जो जानता है सब
Utkarsh Dubey “Kokil”
यथार्थ
यथार्थ
Shyam Sundar Subramanian
प्राण-प्रतिष्ठा(अयोध्या राम मन्दिर)
प्राण-प्रतिष्ठा(अयोध्या राम मन्दिर)
लक्ष्मी सिंह
हम कवियों की पूँजी
हम कवियों की पूँजी
आकाश महेशपुरी
ग़ज़ल:- तेरे सम्मान की ख़ातिर ग़ज़ल कहना पड़ेगी अब...
ग़ज़ल:- तेरे सम्मान की ख़ातिर ग़ज़ल कहना पड़ेगी अब...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
*झंडा (बाल कविता)*
*झंडा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
" छोटा सिक्का"
Dr Meenu Poonia
बदलाव की ओर
बदलाव की ओर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बाल कविता : काले बादल
बाल कविता : काले बादल
Rajesh Kumar Arjun
■ चल गया होगा पता...?
■ चल गया होगा पता...?
*प्रणय प्रभात*
Loading...