Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Mar 2023 · 1 min read

आइना अपने दिल का साफ़ किया

ग़ज़ल
आइना अपने दिल का साफ़ किया
जा तुझे मैने अब मुआफ़ किया

तेरी बातों का एतिराफ़¹ किया
तूने मुझसे ही इख़्तिलाफ़² किया

शब-ए-फ़ुर्क़त³ थी सर्द सो हमने
वस्ल⁴ के ख़्वाब को लिहाफ़⁵ किया

चाँद करता है ज्यों ज़मीं का तवाफ़⁶
तेरे कूचे⁷ का यूँ तवाफ़ किया

इश्क़ से हमने आशनाई⁸ की
तूने बस ऐन शीन क़ाफ़* किया

इक परी-रू⁹ ने दिल में हो के मकीं¹⁰
दिल मेरा जैसे कोह-ए-क़ाफ़¹¹ किया

करना थी जो नमाज़े-इश्क़ अदा
हमने सहरा¹² में एति’काफ़¹³ किया

ये सुकूँ एहतिजाज¹⁴ करने लगा
फ़ैसला दिल के क्यों खिलाफ़ किया

ना-उमीदी की तीरगी¹⁵ में ‘अनीस’
एक उम्मीद ने शिगाफ़¹⁶ किया
-अनीस शाह ‘अनीस’
(*ऐन शीन क़ाफ़=इश्क़ की स्पेलिंग, मुहावरे के तौर पर समय पास करना)
1.स्वीकृति 2.विरोध 3.वियोग की रात 4.मिलन 5.रजाई 6.परिक्रमा 7.गली 8.परिचय 9.परी जैसे मुँह वाली 10.निवासी 11.वह पहाड़ जिस पर परियाँ रहती हैं 12.रेगिस्तान 13.इबादत के लिए एकांत में बैठना 14.विरोध प्रदर्शन 15.अँधेरा 16.छेद, दरार

Language: Hindi
1 Like · 173 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नशा और युवा
नशा और युवा
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
दोस्ती
दोस्ती
Mukesh Kumar Sonkar
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
The_dk_poetry
उठो, जागो, बढ़े चलो बंधु...( स्वामी विवेकानंद की जयंती पर उनके दिए गए उत्प्रेरक मंत्र से प्रेरित होकर लिखा गया मेरा स्वरचित गीत)
उठो, जागो, बढ़े चलो बंधु...( स्वामी विवेकानंद की जयंती पर उनके दिए गए उत्प्रेरक मंत्र से प्रेरित होकर लिखा गया मेरा स्वरचित गीत)
डॉ.सीमा अग्रवाल
मेघ गोरे हुए साँवरे
मेघ गोरे हुए साँवरे
Dr Archana Gupta
संभव है कि किसी से प्रेम या फिर किसी से घृणा आप करते हों,पर
संभव है कि किसी से प्रेम या फिर किसी से घृणा आप करते हों,पर
Paras Nath Jha
आप किससे प्यार करते हैं?
आप किससे प्यार करते हैं?
Otteri Selvakumar
3062.*पूर्णिका*
3062.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
औरतें ऐसी ही होती हैं
औरतें ऐसी ही होती हैं
Mamta Singh Devaa
यादों की तुरपाई कर दें
यादों की तुरपाई कर दें
Shweta Soni
वसंत पंचमी
वसंत पंचमी
Bodhisatva kastooriya
संबंध अगर ह्रदय से हो
संबंध अगर ह्रदय से हो
शेखर सिंह
दुःख ले कर क्यो चलते तो ?
दुःख ले कर क्यो चलते तो ?
Buddha Prakash
*बस एक बार*
*बस एक बार*
Shashi kala vyas
हमारी मां हमारी शक्ति ( मातृ दिवस पर विशेष)
हमारी मां हमारी शक्ति ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
कौन हो तुम
कौन हो तुम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
काश कभी ऐसा हो पाता
काश कभी ऐसा हो पाता
Rajeev Dutta
श्री रमेश जैन द्वारा
श्री रमेश जैन द्वारा "कहते रवि कविराय" कुंडलिया संग्रह की सराहना : मेरा सौभाग्य
Ravi Prakash
मेरी पहली होली
मेरी पहली होली
BINDESH KUMAR JHA
#दोहा :-
#दोहा :-
*Author प्रणय प्रभात*
कजरी लोक गीत
कजरी लोक गीत
लक्ष्मी सिंह
हरिगीतिका छंद विधान सउदाहरण ( श्रीगातिका)
हरिगीतिका छंद विधान सउदाहरण ( श्रीगातिका)
Subhash Singhai
वैशाख का महीना
वैशाख का महीना
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
है कश्मकश - इधर भी - उधर भी
है कश्मकश - इधर भी - उधर भी
Atul "Krishn"
खुद पर विश्वास करें
खुद पर विश्वास करें
Dinesh Gupta
'सवालात' ग़ज़ल
'सवालात' ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
गुमनाम 'बाबा'
मै मानव  कहलाता,
मै मानव कहलाता,
कार्तिक नितिन शर्मा
THE FLY (LIMERICK)
THE FLY (LIMERICK)
SURYA PRAKASH SHARMA
"अहसास के पन्नों पर"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...