Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2023 · 1 min read

आंखों में

नाम हम ने लिखा था आंखों में
तेरा ही इक चेहरा था आंखों में।

बात दिल की हम कभी कह न पाये
अधूरा सा सपना था , आंखों में

परेशां हम है तुमसे बात करने को
जलता सा आसमां था,आंखों में

इश्क की बातें तुम अब न करो।
अंधेरा ही अंधेरा था , आंखों में

हाथ तुमने जो थामा ,मेरा दिलबर
हुआ फिर सवेरा आंखों में।

सुरिंदर कौर

Language: Hindi
1 Like · 239 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
तुम्हारी निगाहें
तुम्हारी निगाहें
Er. Sanjay Shrivastava
23/105.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/105.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जुल्फें तुम्हारी फ़िर से सवारना चाहता हूँ
जुल्फें तुम्हारी फ़िर से सवारना चाहता हूँ
The_dk_poetry
ख़्याल रखें
ख़्याल रखें
Dr fauzia Naseem shad
होली के कुण्डलिया
होली के कुण्डलिया
Vijay kumar Pandey
💐प्रेम कौतुक-429💐
💐प्रेम कौतुक-429💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
Santosh Shrivastava
गाछ (लोकमैथिली हाइकु)
गाछ (लोकमैथिली हाइकु)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जिंदगी और रेलगाड़ी
जिंदगी और रेलगाड़ी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
इ. प्रेम नवोदयन
ख़ुद से ख़ुद को
ख़ुद से ख़ुद को
Akash Yadav
* सामने बात आकर *
* सामने बात आकर *
surenderpal vaidya
#हिरोशिमा_दिवस_आज
#हिरोशिमा_दिवस_आज
*Author प्रणय प्रभात*
बिषय सदाचार
बिषय सदाचार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पुनर्वास
पुनर्वास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कुंंडलिया-छंद:
कुंंडलिया-छंद:
जगदीश शर्मा सहज
मगरूर क्यों हैं
मगरूर क्यों हैं
Mamta Rani
करता रहूँ मै भी दीन दुखियों की सेवा।
करता रहूँ मै भी दीन दुखियों की सेवा।
Buddha Prakash
जीवन के लक्ष्य,
जीवन के लक्ष्य,
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
*
*"प्रकृति की व्यथा"*
Shashi kala vyas
चलो प्रिये तुमको मैं संगीत के क्षण ले चलूं....!
चलो प्रिये तुमको मैं संगीत के क्षण ले चलूं....!
singh kunwar sarvendra vikram
एकाकीपन
एकाकीपन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ঈশ্বর কে
ঈশ্বর কে
Otteri Selvakumar
माटी कहे पुकार
माटी कहे पुकार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"मिर्च"
Dr. Kishan tandon kranti
फिर भी करना है संघर्ष !
फिर भी करना है संघर्ष !
जगदीश लववंशी
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मातृत्व दिवस खास है,
मातृत्व दिवस खास है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*तानाशाहों को जब देखा, डरते अच्छा लगता है 【हिंदी गजल/गीतिका】
*तानाशाहों को जब देखा, डरते अच्छा लगता है 【हिंदी गजल/गीतिका】
Ravi Prakash
जुल्मतों के दौर में
जुल्मतों के दौर में
Shekhar Chandra Mitra
Loading...