Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2024 · 1 min read

आंखें

जुबां से न सही,आंखों से बोलना मुझे
जो भी रह गया हो बांकी, कहना मुझे ।

में न भूलूंगा कभी,चाहे भूल जाओ मुझे
जब -जहां मिले थे, ठिकाना याद है मुझे ।

हर दिन होली, हर रात दिवाली- सा था
दिन जलाता है, रात काटती है अब मुझे

ना देगा कोई साथ ,जीवन में दूर तक तुझे
भटकोगी , पलभर बाहों में कोई लेले मुझे ।

गुजरता है किस तरह, रिंग कर बताना मुझे
दिन बेचैन,नींद क्यों न आती सुबह तक मुझे ।

दोस्ती न सही , दुश्मनी न देना भूलकर मुझे
हो यदि सामना, आंखे न चुराना देखकर मुझे ।

जुबां से न सही , आंखों से भी बोलना था मुझे
जो भी रह गया था बांकी, अब भी सुनना मुझे ।
********************************””********

@मौलिक रचना – घनश्याम पोद्दार
मुंगेर

Language: Hindi
79 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तेरी - मेरी कहानी, ना होगी कभी पुरानी
तेरी - मेरी कहानी, ना होगी कभी पुरानी
The_dk_poetry
स्त्री सबकी चुगली अपने पसंदीदा पुरुष से ज़रूर करती है
स्त्री सबकी चुगली अपने पसंदीदा पुरुष से ज़रूर करती है
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
द्रौपदी ने भी रखा था ‘करवा चौथ’ का व्रत
द्रौपदी ने भी रखा था ‘करवा चौथ’ का व्रत
कवि रमेशराज
नरम दिली बनाम कठोरता
नरम दिली बनाम कठोरता
Karishma Shah
దీపావళి కాంతులు..
దీపావళి కాంతులు..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
जीवन में प्राथमिकताओं का तय किया जाना बेहद ज़रूरी है,अन्यथा
जीवन में प्राथमिकताओं का तय किया जाना बेहद ज़रूरी है,अन्यथा
Shweta Soni
निकाल देते हैं
निकाल देते हैं
Sûrëkhâ
वासना और करुणा
वासना और करुणा
मनोज कर्ण
मेहनत के दिन हमको , बड़े याद आते हैं !
मेहनत के दिन हमको , बड़े याद आते हैं !
Kuldeep mishra (KD)
Love night
Love night
Bidyadhar Mantry
जिंदगी और रेलगाड़ी
जिंदगी और रेलगाड़ी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
परिश्रम
परिश्रम
Neeraj Agarwal
बहुत ख्वाहिश थी ख्वाहिशों को पूरा करने की
बहुत ख्वाहिश थी ख्वाहिशों को पूरा करने की
VINOD CHAUHAN
वाचाल सरपत
वाचाल सरपत
आनन्द मिश्र
3524.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3524.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
अक्सर हम ज़िन्दगी में इसलिए भी अकेले होते हैं क्योंकि हमारी ह
अक्सर हम ज़िन्दगी में इसलिए भी अकेले होते हैं क्योंकि हमारी ह
पूर्वार्थ
■ हर दौर में एक ही हश्र।
■ हर दौर में एक ही हश्र।
*प्रणय प्रभात*
रख लेना तुम सम्भाल कर
रख लेना तुम सम्भाल कर
Pramila sultan
मेरी जीत की खबर से ऐसे बिलक रहे हैं ।
मेरी जीत की खबर से ऐसे बिलक रहे हैं ।
Phool gufran
दूर तक आ गए मुश्किल लग रही है वापसी
दूर तक आ गए मुश्किल लग रही है वापसी
गुप्तरत्न
एक साक्षात्कार - चाँद के साथ
एक साक्षात्कार - चाँद के साथ
Atul "Krishn"
यादों का सफ़र...
यादों का सफ़र...
Santosh Soni
जब भर पाया ही नहीं, उनका खाली पेट ।
जब भर पाया ही नहीं, उनका खाली पेट ।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
लोग चाहते हैं कि आप बेहतर करें
लोग चाहते हैं कि आप बेहतर करें
Virendra kumar
भोर अगर है जिंदगी,
भोर अगर है जिंदगी,
sushil sarna
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सोच...….🤔
सोच...….🤔
Vivek Sharma Visha
सूरत यह सारी
सूरत यह सारी
Dr fauzia Naseem shad
17रिश्तें
17रिश्तें
Dr Shweta sood
*स्वर्ग लोक से चलकर गंगा, भारत-भू पर आई (गीत)*
*स्वर्ग लोक से चलकर गंगा, भारत-भू पर आई (गीत)*
Ravi Prakash
Loading...