Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2024 · 1 min read

आँखों की गहराइयों में बसी वो ज्योत,

आँखों की गहराइयों में बसी वो ज्योत,
मां की ममता का कोई मोल नहीं।
उसकी दुआओं में है सारा सुख,
मां की ममता का कोई मोल नहीं।

33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पुच्छल दोहा
पुच्छल दोहा
सतीश तिवारी 'सरस'
सत्य कर्म की सीढ़ी चढ़कर,बिना किसी को कष्ट दिए जो सफलता प्रा
सत्य कर्म की सीढ़ी चढ़कर,बिना किसी को कष्ट दिए जो सफलता प्रा
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
माॅं
माॅं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
है वक़्त बड़ा शातिर
है वक़्त बड़ा शातिर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
2925.*पूर्णिका*
2925.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं।
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
निरीह गौरया
निरीह गौरया
Dr.Pratibha Prakash
" मेरे जीवन का राज है राज "
Dr Meenu Poonia
*पिता का प्यार*
*पिता का प्यार*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
व्यस्तता
व्यस्तता
Surya Barman
*मैं* प्यार के सरोवर मे पतवार हो गया।
*मैं* प्यार के सरोवर मे पतवार हो गया।
Anil chobisa
पत्नी   से   पंगा   लिया, समझो   बेड़ा  गर्क ।
पत्नी से पंगा लिया, समझो बेड़ा गर्क ।
sushil sarna
कैसा क़हर है क़ुदरत
कैसा क़हर है क़ुदरत
Atul "Krishn"
बहू बनी बेटी
बहू बनी बेटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
उम्र तो गुजर जाती है..... मगर साहेब
उम्र तो गुजर जाती है..... मगर साहेब
shabina. Naaz
हे दिल ओ दिल, तेरी याद बहुत आती है हमको
हे दिल ओ दिल, तेरी याद बहुत आती है हमको
gurudeenverma198
आवाज़
आवाज़
Adha Deshwal
*तन्हाँ तन्हाँ  मन भटकता है*
*तन्हाँ तन्हाँ मन भटकता है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सरहद
सरहद
लक्ष्मी सिंह
कभी-कभी
कभी-कभी
Ragini Kumari
चाहे जितनी हो हिमालय की ऊँचाई
चाहे जितनी हो हिमालय की ऊँचाई
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
मातृभूमि
मातृभूमि
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"बन्धन"
Dr. Kishan tandon kranti
ख़ुदा करे ये क़यामत के दिन भी बड़े देर से गुजारे जाएं,
ख़ुदा करे ये क़यामत के दिन भी बड़े देर से गुजारे जाएं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अगर कुछ करना है,तो कर डालो ,वरना शुरू भी मत करना!
अगर कुछ करना है,तो कर डालो ,वरना शुरू भी मत करना!
पूर्वार्थ
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
$úDhÁ MãÚ₹Yá
हर मोड़ पर ,
हर मोड़ पर ,
Dhriti Mishra
रो रो कर बोला एक पेड़
रो रो कर बोला एक पेड़
Buddha Prakash
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*प्रणय प्रभात*
सच हकीकत और हम बस शब्दों के साथ हैं
सच हकीकत और हम बस शब्दों के साथ हैं
Neeraj Agarwal
Loading...