Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Feb 2024 · 1 min read

अलविदा नहीं

#दिनांक:-24/2/2024
#शीर्षक:- अलविदा नहीं।

हर एक की बात नहीं,
पर तेरी-मेरी बात जरूर होगी ,
वापस मिले ना मिले कभी,
हर लम्बित याद जरूर होगी।
पर, कोई वादा नहीं ना इरादा रखना,
भरोसे में कमी कुछ ज्यादा ही रखना,
क्या ठिकाना जीवन के डोर का,
आते जाते लहरों के बिह्वल शोर का।
हिसाब किताबों में लिप्त हो रहे,
सुप्तावस्था मौत के अधीन हो रहे,
उम्मीद तब कैसे आसान होगा,
हर समय त्रासद के समान होगा।
कोई कैसे बुलावा प्रेम का भेजेगा??
मोह माया का तीखा तंज कैसे सहेगा??
आशा मूर्छित हो रही दिन-ब-दिन,
नकारात्मकता प्रसारण रातदिन ।
हर तरफ चित्र,नृत्य-गीतों की गूंज होगी,
‘प्रतिभा’ होगी पर प्रतिमा में निहित होगी।
आयेगा रवि रजनी में खो जाने के लिए,
एक और आधुनिक दिल धड़काने के लिए।
अलविदा नहीं,पर उद्घाटित का भी वादा ना दूंगी,
प्रेम पुनर्जीवित अकल्पित अमृत की बूंद बनूंगी।

(स्वरचित)
प्रतिभा पाण्डेय “प्रति”
चेन्नई

Language: Hindi
2 Likes · 47 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हो रही बरसात झमाझम....
हो रही बरसात झमाझम....
डॉ. दीपक मेवाती
सभी फैसले अपने नहीं होते,
सभी फैसले अपने नहीं होते,
शेखर सिंह
7-सूरज भी डूबता है सरे-शाम देखिए
7-सूरज भी डूबता है सरे-शाम देखिए
Ajay Kumar Vimal
"बीज"
Dr. Kishan tandon kranti
पहले तेरे हाथों पर
पहले तेरे हाथों पर
The_dk_poetry
"अस्थिरं जीवितं लोके अस्थिरे धनयौवने |
Mukul Koushik
मानवता
मानवता
Rahul Singh
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*गुरु (बाल कविता)*
*गुरु (बाल कविता)*
Ravi Prakash
सौ रोग भले देह के, हों लाख कष्टपूर्ण
सौ रोग भले देह के, हों लाख कष्टपूर्ण
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जहां प्रगटे अवधपुरी श्रीराम
जहां प्रगटे अवधपुरी श्रीराम
Mohan Pandey
जीवन मंत्र वृक्षों के तंत्र होते हैं
जीवन मंत्र वृक्षों के तंत्र होते हैं
Neeraj Agarwal
लबो पे तबस्सुम निगाहों में बिजली,
लबो पे तबस्सुम निगाहों में बिजली,
Vishal babu (vishu)
एक ठंडी हवा का झोंका है बेटी: राकेश देवडे़ बिरसावादी
एक ठंडी हवा का झोंका है बेटी: राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
जिंदगी
जिंदगी
Sangeeta Beniwal
हम भी नहीं रहते
हम भी नहीं रहते
Dr fauzia Naseem shad
प्रकृति का अनुपम उपहार है जीवन
प्रकृति का अनुपम उपहार है जीवन
Er. Sanjay Shrivastava
*मधु मालती*
*मधु मालती*
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
from under tony's bed - I think she must be traveling
from under tony's bed - I think she must be traveling
Desert fellow Rakesh
मोलभाव
मोलभाव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
यह जनता है ,सब जानती है
यह जनता है ,सब जानती है
Bodhisatva kastooriya
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Irfan khan
तुम्हारी छवि...
तुम्हारी छवि...
उमर त्रिपाठी
“पतंग की डोर”
“पतंग की डोर”
DrLakshman Jha Parimal
आप चाहे जितने भी बड़े पद पर क्यों न बैठे हों, अगर पद के अनुर
आप चाहे जितने भी बड़े पद पर क्यों न बैठे हों, अगर पद के अनुर
Anand Kumar
सेर
सेर
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
दोहा पंचक. . . . प्रेम
दोहा पंचक. . . . प्रेम
sushil sarna
#लघु_कविता
#लघु_कविता
*Author प्रणय प्रभात*
औरत अश्क की झीलों से हरी रहती है
औरत अश्क की झीलों से हरी रहती है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
जो दिखता है नहीं सच वो हटा परदा ज़रा देखो
जो दिखता है नहीं सच वो हटा परदा ज़रा देखो
आर.एस. 'प्रीतम'
Loading...