Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 May 2024 · 1 min read

अर्थ शब्दों के. (कविता)

अर्थ शब्दों के

मैं दिल में दबी हर बात को
यूं कागज़ पर उकेरना चाहती हूं
उकेरना चाहती हूं एहसासों को अपने मगर सोचती हूं फिर
क्या है फायदा क्या है कुछ लिखने का लोग तो सिर्फ
अपनी सोच के अनुसार ही तो समझते हैं इसलिए हर बात को
छोटे से छोटा लिख देता हूं
यही सोचकर की क्या फर्क पड़ता है किसी को
और ना ही मैं परेशान हो सकू ये सोचकर कि मैंने अपने अल्फाजों को
जरूरत से ज्यादा लिख दिया
आखिर लोग जरूरत से ज्यादा समझते भी कहां है
जैसे एक छोटे बच्चों की थाली में
खाना उतना ही रखा जाता है
जितना कि वह बचा पाए
मां को पता होता है कि कितना दिया जाए ताकि खाली थाली में खाना व्यर्थ न जाए बस यूं ही कुछ
नहीं करती मैं अपनों लफ्जों को जाया लिखती हूं सिर्फ उतना ही
जितना कि लोग शायद समझ पाए क्योंकि ज्यादा गहरे शब्दों को भी अनसुना कर दिया जाता है
आखिर कौन पचा पाया है गहरे अर्थों के शब्दों को

मोनिका यादव

Language: Hindi
34 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
काली मां
काली मां
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
समाज सुधारक
समाज सुधारक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
A daughter's reply
A daughter's reply
Bidyadhar Mantry
पुरातत्वविद
पुरातत्वविद
Kunal Prashant
पेशवा बाजीराव बल्लाल भट्ट
पेशवा बाजीराव बल्लाल भट्ट
Ajay Shekhavat
नवयुग का भारत
नवयुग का भारत
AMRESH KUMAR VERMA
ऐश ट्रे   ...
ऐश ट्रे ...
sushil sarna
हसीब सोज़... बस याद बाक़ी है
हसीब सोज़... बस याद बाक़ी है
अरशद रसूल बदायूंनी
कहीं भूल मुझसे न हो जो गई है।
कहीं भूल मुझसे न हो जो गई है।
surenderpal vaidya
प्रभु नृसिंह जी
प्रभु नृसिंह जी
Anil chobisa
2489.पूर्णिका
2489.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दिखती है हर दिशा में वो छवि तुम्हारी है
दिखती है हर दिशा में वो छवि तुम्हारी है
इंजी. संजय श्रीवास्तव
कभी बारिश में जो भींगी बहुत थी
कभी बारिश में जो भींगी बहुत थी
Shweta Soni
मैं इक रोज़ जब सुबह सुबह उठूं
मैं इक रोज़ जब सुबह सुबह उठूं
ruby kumari
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
*रखिए एक दिवस सभी, मोबाइल को बंद (कुंडलिया)*
*रखिए एक दिवस सभी, मोबाइल को बंद (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
🥀✍*अज्ञानी की*🥀
🥀✍*अज्ञानी की*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
वो कहते हैं कहाँ रहोगे
वो कहते हैं कहाँ रहोगे
VINOD CHAUHAN
*जब एक ही वस्तु कभी प्रीति प्रदान करने वाली होती है और कभी द
*जब एक ही वस्तु कभी प्रीति प्रदान करने वाली होती है और कभी द
Shashi kala vyas
डा. तेज सिंह : हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ का स्मरण / MUSAFIR BAITHA
डा. तेज सिंह : हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ का स्मरण / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
शुरुआत जरूरी है
शुरुआत जरूरी है
Shyam Pandey
संवेदना - अपनी ऑंखों से देखा है
संवेदना - अपनी ऑंखों से देखा है
नवीन जोशी 'नवल'
आत्म मंथन
आत्म मंथन
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
आइए जनाब
आइए जनाब
Surinder blackpen
फनीश्वरनाथ रेणु के जन्म दिवस (4 मार्च) पर विशेष
फनीश्वरनाथ रेणु के जन्म दिवस (4 मार्च) पर विशेष
Paras Nath Jha
"क्रोध"
Dr. Kishan tandon kranti
होलिका दहन
होलिका दहन
Bodhisatva kastooriya
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
,,,,,,,,,,,,?
,,,,,,,,,,,,?
शेखर सिंह
इश्क बेहिसाब कीजिए
इश्क बेहिसाब कीजिए
साहित्य गौरव
Loading...