Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2024 · 1 min read

अर्थी चली कंगाल की

अर्थी चली कंगाल की
हाय ! रे बेहाल की

चार जन उठाए हुए थे,
मंदी मंदी चाल थी।
नैनो से आंसू टपक रहे थे,
आंखें हो गई लाल थी ।।
अर्थी चली कंगाल की…..

दोस्त उनके जो कभी बिछड़ गए थे,
मजार पर आज उनकी भीड़ थी ।
मौन -विलाप सब कर रहे थे ,
घर रो रही बेचारी बीर थी।।
अर्थी चली कंगाल…..

हरी चूड़ियों से कभी हाथ सजाए थे,
आज मृत की छाती पर पड़ी थी।
जबरदस्ती तोड़ दी थी ,
मानो टूटी जंजीर थी ।।
अर्थी चली कंगाल की …….

लिटाया गया मृत को मजार पर ,
उपस्थित जनों ने दिल थाम कर।
दी मुखाग्नि मृतक के बड़े बेटे ने ,
कहर ढाह रही ये शाम थी।।
अर्थी चली कंगाल की ……..

भाई ने बांस फैंका मजार पर से,
खूब दहाड़ मार कर के ।
गलती हो तो माफ कर देना ,
छोड़ चले हमें निस्सहाय कर के।।
अर्थी चली कंगाल की …..

दिखावा करने वह लोग भी आये थे,
जिसने बीमारी पर पैसे लगाएं थे।
दिखावा कर सब रो रहे थे ,
पर चिंता थी ब्याज की ।।
अर्थी चली कंगाल की ……

सतपाल चौहान।

Language: Hindi

Language: Hindi
3 Likes · 76 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from SATPAL CHAUHAN
View all
You may also like:
कैसी पूजा फिर कैसी इबादत आपकी
कैसी पूजा फिर कैसी इबादत आपकी
Dr fauzia Naseem shad
भ्रांति पथ
भ्रांति पथ
नवीन जोशी 'नवल'
महफ़िल में गीत नहीं गाता
महफ़िल में गीत नहीं गाता
Satish Srijan
23/104.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/104.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मेरा कान्हा जो मुझसे जुदा हो गया
मेरा कान्हा जो मुझसे जुदा हो गया
कृष्णकांत गुर्जर
World Tobacco Prohibition Day
World Tobacco Prohibition Day
Tushar Jagawat
💐प्रेम कौतुक-425💐
💐प्रेम कौतुक-425💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अरमानों की भीड़ में,
अरमानों की भीड़ में,
Mahendra Narayan
होली गीत
होली गीत
umesh mehra
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
कोई पढ़ ले न चेहरे की शिकन
कोई पढ़ ले न चेहरे की शिकन
Shweta Soni
मैं मधुर भाषा हिन्दी
मैं मधुर भाषा हिन्दी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
everyone says- let it be the defect of your luck, be forget
everyone says- let it be the defect of your luck, be forget
Ankita Patel
मुझे पता है।
मुझे पता है।
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
बाल कविता: हाथी की दावत
बाल कविता: हाथी की दावत
Rajesh Kumar Arjun
मैं अक्सर उसके सामने बैठ कर उसे अपने एहसास बताता था लेकिन ना
मैं अक्सर उसके सामने बैठ कर उसे अपने एहसास बताता था लेकिन ना
पूर्वार्थ
संवेदनशील होना किसी भी व्यक्ति के जीवन का महान गुण है।
संवेदनशील होना किसी भी व्यक्ति के जीवन का महान गुण है।
Mohan Pandey
"दास्तान"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रेम🕊️
प्रेम🕊️
Vivek Mishra
तब गाँव हमे अपनाता है
तब गाँव हमे अपनाता है
संजय कुमार संजू
लडकियाँ
लडकियाँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
समय और स्वास्थ्य के असली महत्त्व को हम तब समझते हैं जब उसका
समय और स्वास्थ्य के असली महत्त्व को हम तब समझते हैं जब उसका
Paras Nath Jha
जीवन का सफ़र कल़म की नोंक पर चलता है
जीवन का सफ़र कल़म की नोंक पर चलता है
प्रेमदास वसु सुरेखा
*अध्याय 5*
*अध्याय 5*
Ravi Prakash
हम मोहब्बत की निशानियाँ छोड़ जाएंगे
हम मोहब्बत की निशानियाँ छोड़ जाएंगे
Dr Tabassum Jahan
यह जो कानो में खिचड़ी पकाते हो,
यह जो कानो में खिचड़ी पकाते हो,
Ashwini sharma
*कोपल निकलने से पहले*
*कोपल निकलने से पहले*
Poonam Matia
समय आया है पितृपक्ष का, पुण्य स्मरण कर लें।
समय आया है पितृपक्ष का, पुण्य स्मरण कर लें।
surenderpal vaidya
शक्कर में ही घोलिए,
शक्कर में ही घोलिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...