Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Mar 2024 · 1 min read

अमिट सत्य

सत्य कभी मिटता नहीं बस पड़ता है कमज़ोर।
झूंट जो आगे बढ़ता रहता मचा मचा कर शोर।।
मचा मचा कर शोर झुंट कभी भी टिक नहीं पाता।
पकड़ा जाये झूंट हमेशा सच जब सामने आता।।
कहे विजय बिजनौरी जग में झुंट के पैर नहीं होते।
सच के साथ चलने वाले जग में सुख की नींद सोते ।।

विजय कुमार अग्रवाल
विजय बिजनौरी।

1 Like · 61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विजय कुमार अग्रवाल
View all
You may also like:
दर्द का बस
दर्द का बस
Dr fauzia Naseem shad
*गुरु हैं कृष्ण महान (सात दोहे)*
*गुरु हैं कृष्ण महान (सात दोहे)*
Ravi Prakash
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
Mamta Rani
"उसूल"
Dr. Kishan tandon kranti
सच्चे देशभक्त ‘ लाला लाजपत राय ’
सच्चे देशभक्त ‘ लाला लाजपत राय ’
कवि रमेशराज
रक्षाबंधन का त्योहार
रक्षाबंधन का त्योहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ना मानी हार
ना मानी हार
Dr. Meenakshi Sharma
बीता समय अतीत अब,
बीता समय अतीत अब,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
रात……!
रात……!
Sangeeta Beniwal
प्रथम गणेशोत्सव
प्रथम गणेशोत्सव
Raju Gajbhiye
मैं अपने दिल की रानी हूँ
मैं अपने दिल की रानी हूँ
Dr Archana Gupta
ना मुराद फरीदाबाद
ना मुराद फरीदाबाद
ओनिका सेतिया 'अनु '
मेरा फलसफा
मेरा फलसफा
umesh mehra
फूल को,कलियों को,तोड़ना पड़ा
फूल को,कलियों को,तोड़ना पड़ा
कवि दीपक बवेजा
मैं चला बन एक राही
मैं चला बन एक राही
AMRESH KUMAR VERMA
जीवन में समय होता हैं
जीवन में समय होता हैं
Neeraj Agarwal
प्रेम 💌💌💕♥️
प्रेम 💌💌💕♥️
डॉ० रोहित कौशिक
अर्थ  उपार्जन के लिए,
अर्थ उपार्जन के लिए,
sushil sarna
शुभ दीपावली
शुभ दीपावली
Harsh Malviya
गर्म हवाएं चल रही, सूरज उगले आग।।
गर्म हवाएं चल रही, सूरज उगले आग।।
Manoj Mahato
3071.*पूर्णिका*
3071.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जमाने को खुद पे
जमाने को खुद पे
A🇨🇭maanush
रिवायत दिल की
रिवायत दिल की
Neelam Sharma
मजे की बात है ....
मजे की बात है ....
Rohit yadav
ये जो मुहब्बत लुका छिपी की नहीं निभेगी तुम्हारी मुझसे।
ये जो मुहब्बत लुका छिपी की नहीं निभेगी तुम्हारी मुझसे।
सत्य कुमार प्रेमी
जीवन का रंगमंच
जीवन का रंगमंच
Harish Chandra Pande
पत्थर
पत्थर
manjula chauhan
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
पूर्वार्थ
Loading...