Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-101💐

अभी-अभी बोसी हुई है उनसे बोसी।
और संग में ख़ामोश रहने की कह गए।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
41 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
सच्ची सहेली - कहानी
सच्ची सहेली - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*राजा दशरथ (कुंडलिया)*
*राजा दशरथ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Never trust people who tells others secret
Never trust people who tells others secret
Md Ziaulla
दोस्ती से हमसफ़र
दोस्ती से हमसफ़र
Seema gupta,Alwar
जोगीरा
जोगीरा
संजीव शुक्ल 'सचिन'
दूर रहकर तो मैं भी किसी का हो जाऊं
दूर रहकर तो मैं भी किसी का हो जाऊं
डॉ. दीपक मेवाती
कुंठाओं के दलदल में,
कुंठाओं के दलदल में,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तसल्ली मुझे जीने की,
तसल्ली मुझे जीने की,
Vishal babu (vishu)
तेरे बिन
तेरे बिन
Kamal Deependra Singh
लौट आओ तो सही
लौट आओ तो सही
मनोज कर्ण
खुले लोकतंत्र में पशु तंत्र ही सबसे बड़ा हथियार है
खुले लोकतंत्र में पशु तंत्र ही सबसे बड़ा हथियार है
प्रेमदास वसु सुरेखा
जगमगाती चाँदनी है इस शहर में
जगमगाती चाँदनी है इस शहर में
Dr Archana Gupta
गम के बादल गये, आया मधुमास है।
गम के बादल गये, आया मधुमास है।
सत्य कुमार प्रेमी
ये राज़ किस से कहू ,ये बात कैसे बताऊं
ये राज़ किस से कहू ,ये बात कैसे बताऊं
Sonu sugandh
मेरी राहों में ख़ार
मेरी राहों में ख़ार
Dr fauzia Naseem shad
💐उनकी नज़र से दोस्ती कर ली💐
💐उनकी नज़र से दोस्ती कर ली💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
यकीं मुझको नहीं
यकीं मुझको नहीं
Ranjana Verma
एक जिंदगी एक है जीवन
एक जिंदगी एक है जीवन
विजय कुमार अग्रवाल
बड़े होते बच्चे
बड़े होते बच्चे
Manu Vashistha
भ्रम जाल
भ्रम जाल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नेह निमंत्रण नयनन से, लगी मिलन की आस
नेह निमंत्रण नयनन से, लगी मिलन की आस
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
तन्हाई
तन्हाई
Rajni kapoor
बेटी और प्रकृति से बैर ना पालो,
बेटी और प्रकृति से बैर ना पालो,
लक्ष्मी सिंह
ये भी सच है के हम नही थे बेइंतेहा मशहूर
ये भी सच है के हम नही थे बेइंतेहा मशहूर
'अशांत' शेखर
धोखे से मारा गद्दारों,
धोखे से मारा गद्दारों,
Satish Srijan
बेटी उड़ान पर बाप ढलान पर👸👰🙋
बेटी उड़ान पर बाप ढलान पर👸👰🙋
Tarun Prasad
मै पैसा हूं मेरे रूप है अनेक
मै पैसा हूं मेरे रूप है अनेक
Ram Krishan Rastogi
■ आज का शेर....
■ आज का शेर....
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
खुदकुशी नहीं, इंकलाब करो
खुदकुशी नहीं, इंकलाब करो
Shekhar Chandra Mitra
Loading...