Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2017 · 1 min read

अभिनन्दन गीत- स्वागत गीत

अभिनन्दन है, अभिनन्दन, अभिनन्दन है, अभिनन्दन।
पावन इस बेला पर करते, हम सब जन मिलकर वंदन।।

अहोभाग्य अपना है ये कि, आप हमारे बीच पधारे।
नहीं बता सकते हैं कितने, हर्षित जन गन मन सारे।।
रजधूलि पे कदम पड़ा तो, महक उठी है रज कणकण।
अभिनन्दन है, अभिनन्दन, अभिनन्दन है, अभिनन्दन।1।

एक निवेदन को स्वीकारे, सभी आपके आभारी।
मान बढ़ाये शान बढ़ाये, जाये तुम पर बलिहारी।।
जयजय बोल रहे हैं सबही, होकरके चन्दन चन्दन।
अभिनन्दन है, अभिनन्दन, अभिनन्दन है, अभिनन्दन।2।

याद किया हमने और तुमने, हमको नहीं निराश किया।
दरस आपके मानो जिसने, दिल में परम् उजास किया।।
होता रहे आपका हरदम, आगमन अब तो श्रीमन।
अभिनन्दन है, अभिनन्दन, अभिनन्दन है, अभिनन्दन।3।

Language: Hindi
Tag: गीत
6 Likes · 4 Comments · 28925 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*निकला है चाँद द्वार मेरे*
*निकला है चाँद द्वार मेरे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ट्रस्टीशिप-विचार / 1982/प्रतिक्रियाएं
ट्रस्टीशिप-विचार / 1982/प्रतिक्रियाएं
Ravi Prakash
ग़रीबी भरे बाजार मे पुरुष को नंगा कर देती है
ग़रीबी भरे बाजार मे पुरुष को नंगा कर देती है
शेखर सिंह
चाहत है बहुत उनसे कहने में डर लगता हैं
चाहत है बहुत उनसे कहने में डर लगता हैं
Jitendra Chhonkar
'महंगाई की मार'
'महंगाई की मार'
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
आईना अब भी मुझसे
आईना अब भी मुझसे
Satish Srijan
बहुत याद आता है मुझको, मेरा बचपन...
बहुत याद आता है मुझको, मेरा बचपन...
Anand Kumar
हरी भरी तुम सब्ज़ी खाओ|
हरी भरी तुम सब्ज़ी खाओ|
Vedha Singh
गुज़र गयी है जिंदगी की जो मुश्किल घड़ियां।।
गुज़र गयी है जिंदगी की जो मुश्किल घड़ियां।।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
Swami Ganganiya
संसद के नए भवन से
संसद के नए भवन से
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
देवो रुष्टे गुरुस्त्राता गुरु रुष्टे न कश्चन:।गुरुस्त्राता ग
देवो रुष्टे गुरुस्त्राता गुरु रुष्टे न कश्चन:।गुरुस्त्राता ग
Shashi kala vyas
डॉ. राकेशगुप्त की साधारणीकरण सम्बन्धी मान्यताओं के आलोक में आत्मीयकरण
डॉ. राकेशगुप्त की साधारणीकरण सम्बन्धी मान्यताओं के आलोक में आत्मीयकरण
कवि रमेशराज
बात जुबां से अब कौन निकाले
बात जुबां से अब कौन निकाले
Sandeep Pande
नहीं जा सकता....
नहीं जा सकता....
Srishty Bansal
"सच का टुकड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
मोनू बंदर का बदला
मोनू बंदर का बदला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दिवाली
दिवाली
नूरफातिमा खातून नूरी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
कोई तो कोहरा हटा दे मेरे रास्ते का,
कोई तो कोहरा हटा दे मेरे रास्ते का,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
कविता ही तो परंम सत्य से, रूबरू हमें कराती है
कविता ही तो परंम सत्य से, रूबरू हमें कराती है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हम खुद से प्यार करते हैं
हम खुद से प्यार करते हैं
ruby kumari
#क्षणिका-
#क्षणिका-
*Author प्रणय प्रभात*
कोई मिले जो  गले लगा ले
कोई मिले जो गले लगा ले
दुष्यन्त 'बाबा'
तेरा - मेरा
तेरा - मेरा
Ramswaroop Dinkar
जाने कहा गये वो लोग
जाने कहा गये वो लोग
Abasaheb Sarjerao Mhaske
~~तीन~~
~~तीन~~
Dr. Vaishali Verma
तुम्हारा दिल ही तुम्हे आईना दिखा देगा
तुम्हारा दिल ही तुम्हे आईना दिखा देगा
VINOD CHAUHAN
माना तुम्हारे मुक़ाबिल नहीं मैं।
माना तुम्हारे मुक़ाबिल नहीं मैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
// दोहा पहेली //
// दोहा पहेली //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...