Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Nov 2022 · 1 min read

अब ना जीना किश्तों में।

कुछ उजले ख्वाब देखे है मेरी नजरों ने।
वफा का वादा किया है वक्त के लम्हों ने।।1।।

फिरसे जीने की तमन्ना दिल में जागी हैं।
अंधेरा मिटा है नई सुबह की किरणों से।।2।।

चलो मिलकर फिर से आबाद करते है।
जो बस्तियां जली थी फसाद के दंगों में।।3।।

ढूंढके लाते हैं हमसब खुशियां जीने में।
इस जिंदगी को अबना जीना किश्तों में।।4।।

चाहत में अब कहां दीवानगी मिलती है।
मुहब्बत भी शामिल हुई है अब धंधों में।।5।।

छोटा था बेतजुर्बेदार था फिरभी उसने।
जिम्मेदारियां उठा ली है अपने कंधों पे।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

1 Like · 186 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
सीरिया रानी
सीरिया रानी
Dr. Mulla Adam Ali
भीड़ में खुद को खो नहीं सकते
भीड़ में खुद को खो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
जिस्म से रूह को लेने,
जिस्म से रूह को लेने,
Pramila sultan
जाने क्यूं मुझ पर से
जाने क्यूं मुझ पर से
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
कौन सुनेगा बात हमारी
कौन सुनेगा बात हमारी
Surinder blackpen
बाल कविता: तितली
बाल कविता: तितली
Rajesh Kumar Arjun
मन किसी ओर नहीं लगता है
मन किसी ओर नहीं लगता है
Shweta Soni
पाँव
पाँव
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ऊँचे जिनके कर्म हैं, ऊँची जिनकी साख।
ऊँचे जिनके कर्म हैं, ऊँची जिनकी साख।
डॉ.सीमा अग्रवाल
चिड़िया रानी
चिड़िया रानी
नन्दलाल सुथार "राही"
*सरिता निकलती है 【मुक्तक】*
*सरिता निकलती है 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
कर दिया है राम,तुमको बहुत बदनाम
कर दिया है राम,तुमको बहुत बदनाम
gurudeenverma198
उसे मैं भूल जाऊंगा, ये मैं होने नहीं दूंगा।
उसे मैं भूल जाऊंगा, ये मैं होने नहीं दूंगा।
सत्य कुमार प्रेमी
सच
सच
Sanjay ' शून्य'
दुर्योधन को चेतावनी
दुर्योधन को चेतावनी
SHAILESH MOHAN
*
*"जहां भी देखूं नजर आते हो तुम"*
Shashi kala vyas
■ 24 घण्टे चौधराहट।
■ 24 घण्टे चौधराहट।
*Author प्रणय प्रभात*
किताब
किताब
Sûrëkhâ Rãthí
बाबा भीमराव अम्बेडकर परिनिर्वाण दिवस
बाबा भीमराव अम्बेडकर परिनिर्वाण दिवस
Buddha Prakash
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
बढ़ी हैं दूरियां दिल की भले हम पास बैठे हैं।
बढ़ी हैं दूरियां दिल की भले हम पास बैठे हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
ईश्वर का उपहार है बेटी, धरती पर भगवान है।
ईश्वर का उपहार है बेटी, धरती पर भगवान है।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
क्या बोलूं
क्या बोलूं
Dr.Priya Soni Khare
"इतिहास गवाह है"
Dr. Kishan tandon kranti
नव वर्ष
नव वर्ष
RAKESH RAKESH
कब मिलोगी मां.....
कब मिलोगी मां.....
Madhavi Srivastava
नशा नाश की गैल हैं ।।
नशा नाश की गैल हैं ।।
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
2346.पूर्णिका
2346.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
" ज़ख़्मीं पंख‌ "
Chunnu Lal Gupta
Loading...