Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 May 2024 · 1 min read

अब कहां लौटते हैं नादान परिंदे अपने घर को,

अब कहां लौटते हैं नादान परिंदे अपने घर को,
जब अपने ही दर पर वो वफ़ा को तरसते हैं

©️ डॉ. शशांक शर्मा “रईस”

Language: Hindi
1 Like · 52 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
क्या होगा कोई ऐसा जहां, माया ने रचा ना हो खेल जहां,
क्या होगा कोई ऐसा जहां, माया ने रचा ना हो खेल जहां,
Manisha Manjari
बचपन
बचपन
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
तूफान आया और
तूफान आया और
Dr Manju Saini
माथे पर दुपट्टा लबों पे मुस्कान रखती है
माथे पर दुपट्टा लबों पे मुस्कान रखती है
Keshav kishor Kumar
हिस्सा,,,,
हिस्सा,,,,
Happy sunshine Soni
अभी भी बहुत समय पड़ा है,
अभी भी बहुत समय पड़ा है,
शेखर सिंह
तारीफ किसकी करूं
तारीफ किसकी करूं
कवि दीपक बवेजा
जय श्री राम
जय श्री राम
Neha
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सम्भाला था
सम्भाला था
भरत कुमार सोलंकी
राजनीति
राजनीति
Bodhisatva kastooriya
सच्चा प्यार
सच्चा प्यार
Mukesh Kumar Sonkar
*नया साल*
*नया साल*
Dushyant Kumar
वाणी का माधुर्य और मर्यादा
वाणी का माधुर्य और मर्यादा
Paras Nath Jha
मुझे जब भी तुम प्यार से देखती हो
मुझे जब भी तुम प्यार से देखती हो
Johnny Ahmed 'क़ैस'
काश तुम्हारी तस्वीर भी हमसे बातें करती
काश तुम्हारी तस्वीर भी हमसे बातें करती
Dushyant Kumar Patel
आमदनी ₹27 और खर्चा ₹ 29
आमदनी ₹27 और खर्चा ₹ 29
कार्तिक नितिन शर्मा
बुरा वक्त
बुरा वक्त
लक्ष्मी सिंह
3327.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3327.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
कर्मफल भोग
कर्मफल भोग
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
जिंदगी तेरे सफर में क्या-कुछ ना रह गया
जिंदगी तेरे सफर में क्या-कुछ ना रह गया
VINOD CHAUHAN
"ख्वाबों के राग"
Dr. Kishan tandon kranti
*श्री देवेंद्र कुमार रस्तोगी के न रहने से आर्य समाज का एक स्
*श्री देवेंद्र कुमार रस्तोगी के न रहने से आर्य समाज का एक स्
Ravi Prakash
21-- 🌸 और वह? 🌸
21-- 🌸 और वह? 🌸
Mahima shukla
निरोगी काया
निरोगी काया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
अधूरी रह जाती दस्तान ए इश्क मेरी
अधूरी रह जाती दस्तान ए इश्क मेरी
इंजी. संजय श्रीवास्तव
हिम्मत कभी न हारिए
हिम्मत कभी न हारिए
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
#लघुकथा
#लघुकथा
*प्रणय प्रभात*
भाई बहिन के त्यौहार का प्रतीक है भाईदूज
भाई बहिन के त्यौहार का प्रतीक है भाईदूज
gurudeenverma198
*
*"बीजणा" v/s "बाजणा"* आभूषण
लोककवि पंडित राजेराम संगीताचार्य
Loading...