Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2024 · 1 min read

अपने

परयों की भीड़ में मिल जाता है कोई अपना सा लगता है,
मगर खुल जाएँ आखें तो सपना सा लगता है,
हकीकत तो यही है,
ना इस समय कोई राम है,
ना हनुमान है,
सीना चीर कर दिखाना पड़े तो दिखा देंगे,
धनुष बाढ़ चलने पड़े,
तो चल लेंगे,
अगर कोई कह दे,
चीर दो सीना,
तो वो अपना कैसे हुआ,
जिंदगी में हर चीज पैसा कैसे हुआ,
जब कोई अपना ही नहीं हुआ|
दौलत से चीज़ कमा सकते हैं,
इंसानियत नहीं,
बहुत से अच्छे बन सकते हैं,
मगर सच्चे नहीं,
सच्चा प्यार ,सच्ची दोस्ती, या सच्चे रिश्ते तो सिर्फ एक कहानी है
सच्च तो ये है कि खुद की पहचान खुद ही बनी है|

3 Likes · 48 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
A last warning
A last warning
Bindesh kumar jha
बच्चें और गर्मी के मज़े
बच्चें और गर्मी के मज़े
कुमार
मैं नहीं तो, मेरा अंश ,काम मेरा यह करेगा
मैं नहीं तो, मेरा अंश ,काम मेरा यह करेगा
gurudeenverma198
*बाल गीत (मेरा मन)*
*बाल गीत (मेरा मन)*
Rituraj shivem verma
Three handfuls of rice
Three handfuls of rice
कार्तिक नितिन शर्मा
प्याली से चाय हो की ,
प्याली से चाय हो की ,
sushil sarna
*तुम  हुए ना हमारे*
*तुम हुए ना हमारे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"अहमियत"
Dr. Kishan tandon kranti
सफलता का महत्व समझाने को असफलता छलती।
सफलता का महत्व समझाने को असफलता छलती।
Neelam Sharma
मैं अपने सारे फ्रेंड्स सर्कल से कहना चाहूँगी...,
मैं अपने सारे फ्रेंड्स सर्कल से कहना चाहूँगी...,
Priya princess panwar
Midnight success
Midnight success
Bidyadhar Mantry
खेल खिलौने वो बचपन के
खेल खिलौने वो बचपन के
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
★डॉ देव आशीष राय सर ★
★डॉ देव आशीष राय सर ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
🙏🙏श्री गणेश वंदना🙏🙏
🙏🙏श्री गणेश वंदना🙏🙏
umesh mehra
मृत्युभोज
मृत्युभोज
अशोक कुमार ढोरिया
*पिता (दोहा गीतिका)*
*पिता (दोहा गीतिका)*
Ravi Prakash
बुद्धं शरणं गच्छामि
बुद्धं शरणं गच्छामि
Dr.Priya Soni Khare
■ दोहा देव दीवाली का।
■ दोहा देव दीवाली का।
*प्रणय प्रभात*
झील किनारे
झील किनारे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
ଆପଣଙ୍କର ଅଛି।।।
ଆପଣଙ୍କର ଅଛି।।।
Otteri Selvakumar
ਕੁਝ ਕਿਰਦਾਰ
ਕੁਝ ਕਿਰਦਾਰ
Surinder blackpen
यदि आप किसी काम को वक्त देंगे तो वह काम एक दिन आपका वक्त नही
यदि आप किसी काम को वक्त देंगे तो वह काम एक दिन आपका वक्त नही
Rj Anand Prajapati
सुनो - दीपक नीलपदम्
सुनो - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
रामधारी सिंह दिवाकर की कहानी 'गाँठ' का मंचन
रामधारी सिंह दिवाकर की कहानी 'गाँठ' का मंचन
आनंद प्रवीण
तुम इतने आजाद हो गये हो
तुम इतने आजाद हो गये हो
नेताम आर सी
अपने आलोचकों को कभी भी नजरंदाज नहीं करें। वही तो है जो आपकी
अपने आलोचकों को कभी भी नजरंदाज नहीं करें। वही तो है जो आपकी
Paras Nath Jha
युग परिवर्तन
युग परिवर्तन
आनन्द मिश्र
सारी उमर तराशा,पाला,पोसा जिसको..
सारी उमर तराशा,पाला,पोसा जिसको..
Shweta Soni
जिंदगी के रंगों को छू लेने की,
जिंदगी के रंगों को छू लेने की,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दुरीयों के बावजूद...
दुरीयों के बावजूद...
सुरेश ठकरेले "हीरा तनुज"
Loading...