Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2023 · 1 min read

अपने अपने युद्ध।

बस हुआ,
विनय अब नहीं होगा।
रक्त नशों में डोल रहा जो
पुरखों के यश बोल रहा जो
माटी की चीत्कार सुनी तो
महाराणा सा खौल रहा जो
उस आग को बहना होगा
आत्म व्यथा को कहना होगा
अब रण की माटी लाल होगी
या वीर ललाट का गहना होगा
तीन दिवस किया विनय प्रभु ने,
सिर नवा, कर जोड़ा प्रभु ने।
बर्दास्त क्षितिज को लांघ गया जब,
क्रोध कोमलता को फांद गया जब।
चढ़ी प्रत्यंचा सोख लूं सागर,भीषण नभ में टंकार हुआ,
क्षीर की शक्ति क्षीण हुई,सागर में हाहाकार हुआ।
अनुनय किया बिहारी ने, पांडव पांच गांव पाएंगे,
उन्हें पता था, हठी कौरव ये प्रस्ताव ठुकराएंगे।
मतांध घमंडी दुर्योधन चला बांधने माधव को,
नर में नारायण देख न पाया, नहीं पहचाना राघव को।
विनय का सूरज ढल चुका था, भय का तम छाया था,
श्रीकृष्ण ने उस सभा में, एक अद्भुत दृश्य दिखाया था।
कर जोड़ याचना से पिघलते नहीं पाषाण,
भीषण अग्नि की ताप से मिट जाते चट्टान।
हाथ जोड़ कर आभार मिले, बल से मिले अधिकार,
भले धड़ को न शीश मिले, माटी का ऋण स्वीकार।
युद्ध तुम्हारा, व्यथा तुम्हारी, गांडीव उठा खुद लड़ना होगा,
नहीं आयेगा कोई सारथी, खुद ही चक्रव्यूह को तोड़ना होगा।

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 1098 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं अपने लिए नहीं अपनों के लिए जीता हूं मेरी एक ख्वाहिश है क
मैं अपने लिए नहीं अपनों के लिए जीता हूं मेरी एक ख्वाहिश है क
Ranjeet kumar patre
👌चोंचलेबाजी-।
👌चोंचलेबाजी-।
*प्रणय प्रभात*
मुझसे मेरी पहचान न छीनों...
मुझसे मेरी पहचान न छीनों...
इंजी. संजय श्रीवास्तव
कैलेंडर नया पुराना
कैलेंडर नया पुराना
Dr MusafiR BaithA
समाज सेवक पुर्वज
समाज सेवक पुर्वज
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मूक संवेदना...
मूक संवेदना...
Neelam Sharma
परोपकार
परोपकार
ओंकार मिश्र
*निरोध (पंचचामर छंद)*
*निरोध (पंचचामर छंद)*
Rituraj shivem verma
People in your life should be a source of reducing stress, n
People in your life should be a source of reducing stress, n
पूर्वार्थ
"नेल्सन मंडेला"
Dr. Kishan tandon kranti
*सुकृति (बाल कविता)*
*सुकृति (बाल कविता)*
Ravi Prakash
स्वीकार्यता समर्पण से ही संभव है, और यदि आप नाटक कर रहे हैं
स्वीकार्यता समर्पण से ही संभव है, और यदि आप नाटक कर रहे हैं
Sanjay ' शून्य'
जब स्वयं के तन पर घाव ना हो, दर्द समझ नहीं आएगा।
जब स्वयं के तन पर घाव ना हो, दर्द समझ नहीं आएगा।
Manisha Manjari
प्यार के पंछी
प्यार के पंछी
Neeraj Agarwal
नहीं कोई धरम उनका
नहीं कोई धरम उनका
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
Dr अरुण कुमार शास्त्री
Dr अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सत्य कर्म की सीढ़ी चढ़कर,बिना किसी को कष्ट दिए जो सफलता प्रा
सत्य कर्म की सीढ़ी चढ़कर,बिना किसी को कष्ट दिए जो सफलता प्रा
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
कभी मिले नहीं है एक ही मंजिल पर जानें वाले रास्तें
कभी मिले नहीं है एक ही मंजिल पर जानें वाले रास्तें
Sonu sugandh
दूर क्षितिज तक जाना है
दूर क्षितिज तक जाना है
Neerja Sharma
जो मेरा है... वो मेरा है
जो मेरा है... वो मेरा है
Sonam Puneet Dubey
हमारा देश
हमारा देश
SHAMA PARVEEN
23/05.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/05.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
वेतन की चाहत लिए एक श्रमिक।
वेतन की चाहत लिए एक श्रमिक।
Rj Anand Prajapati
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जिंदा होने का सबूत
जिंदा होने का सबूत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सेंगोल की जुबानी आपबिती कहानी ?🌅🇮🇳🕊️💙
सेंगोल की जुबानी आपबिती कहानी ?🌅🇮🇳🕊️💙
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
काला न्याय
काला न्याय
Anil chobisa
पत्नी के जन्मदिन पर....
पत्नी के जन्मदिन पर....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कीमत दोनों की चुकानी पड़ती है चुपचाप सहने की भी
कीमत दोनों की चुकानी पड़ती है चुपचाप सहने की भी
Rekha khichi
एहसास
एहसास
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...