Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jun 2021 · 2 min read

**अनहद नाद**

**अनहद नाद**
============

अनहद नाद की प्यासी है श्रुतिपुट…
अनन्त शून्य की ऊचाईयों से,
समुन्दर की गहराईयों तक ।
अनंत शब्दों का नाद सुना मैंने,
पर मन को न भाया कोई शब्द जगत की।
ऐसी चाहत है अब श्रुतिपुट की,
झूम उठे मन का हर कोना-कोना।
अब तो श्रुतिपुट प्यासी है बस अनहद नाद की…

हलचलें तो गूंजती है,अंतर्मन में है अनेकों,
गूंजती है दिन-रात कर्कश ध्वनि में सिमटी हुई नादें,
पथरा सी गई है कर्णों की श्रवण शक्तियां भी।
मन क्यों धोखा खाता है,उलझता है,
उन मिथ्यावचन की सुर तान में मोहित होकर।
अब वो मुरली की मधुरतान भी न लगती कर्णप्रिय,
मन को भ्रमित ही करती है,सुन-सुन कर।
अब तो श्रुतिपुट प्यासी है ,बस अनहद नाद की…

वैभव विलास की माया से आहत होकर,
न जाने कितने जन्म लिये हमने।
प्रतिक्षण काल कवलित होकर भी,
नित नूतन श्रृंगार किए मानव ने।
मन हुआ अधीर सह-सहकर,शब्द निरर्थक की पीड़ा,
पिला दो प्यासे मन को,अब बुद्धत्व की पवित्र मदिरा।
अब तो बस अनहद ध्वनि से मधुरतान करो।
अब तो श्रुतिपुट प्यासी है बस अनहद नाद की…

भूख,भय और तृष्णा से आहत हुए मन के तार,
अब तो तलाश रही,बस उस मधुरध्वनि की सुर-तान,
मै, मैं में न रहूँ बस तूँ ही मुझमें हमेशा रहे विद्यमान।
सुना दो ब्रह्म को एक बार सुर में पिरोकर,
कर्ण की मधुरतम नाद को,मौन की आवाज से चुनकर।
सुना दो कर्णपटल को वो अमृतध्वनि की नगमे,
कुछ भी शेष न रह जाए,सुनने को इस जग में।
श्रुतिपुट तो प्यासी है बस,अब अनहद नाद की…

मौलिक एवं स्वरचित

© *मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – २०/०६/२०२१
मोबाइल न. – 8757227201

Language: Hindi
11 Likes · 10 Comments · 2137 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from मनोज कर्ण
View all
You may also like:
आश्रम
आश्रम
इंजी. संजय श्रीवास्तव
बघेली कविता -
बघेली कविता -
Priyanshu Kushwaha
खांचे में बंट गए हैं अपराधी
खांचे में बंट गए हैं अपराधी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
इंतजार बाकी है
इंतजार बाकी है
शिवम राव मणि
Jindagi Ke falsafe
Jindagi Ke falsafe
Dr Mukesh 'Aseemit'
नव दीप जला लो
नव दीप जला लो
Mukesh Kumar Sonkar
ग्वालियर की बात
ग्वालियर की बात
पूर्वार्थ
महानगर की जिंदगी और प्राकृतिक परिवेश
महानगर की जिंदगी और प्राकृतिक परिवेश
कार्तिक नितिन शर्मा
भावात्मक
भावात्मक
Surya Barman
🙅क्लीन होगा
🙅क्लीन होगा "नीट"🙅
*प्रणय प्रभात*
।। परिधि में रहे......।।
।। परिधि में रहे......।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
अंदाज़े शायरी
अंदाज़े शायरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अंतस्थ वेदना
अंतस्थ वेदना
Neelam Sharma
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
तारीफ किसकी करूं
तारीफ किसकी करूं
कवि दीपक बवेजा
‌‌भक्ति में शक्ति
‌‌भक्ति में शक्ति
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
"एक हकीकत"
Dr. Kishan tandon kranti
Typing mistake
Typing mistake
Otteri Selvakumar
अनजान रिश्ते...
अनजान रिश्ते...
Harminder Kaur
International plastic bag free day
International plastic bag free day
Tushar Jagawat
यह जो तुम कानो मे खिचड़ी पकाते हो,
यह जो तुम कानो मे खिचड़ी पकाते हो,
Ashwini sharma
पलकों से रुसवा हुए, उल्फत के सब ख्वाब ।
पलकों से रुसवा हुए, उल्फत के सब ख्वाब ।
sushil sarna
कैसे कहे
कैसे कहे
Dr. Mahesh Kumawat
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
रामावतार रामायणसार 🙏🙏
रामावतार रामायणसार 🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
व्यथित ह्रदय
व्यथित ह्रदय
कवि अनिल कुमार पँचोली
होकर उल्लू पर सवार
होकर उल्लू पर सवार
Pratibha Pandey
दुआ
दुआ
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
बच्चे पैदा करना बड़ी बात नही है
बच्चे पैदा करना बड़ी बात नही है
Rituraj shivem verma
प्रेम भरी नफरत
प्रेम भरी नफरत
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Loading...