Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2017 · 4 min read

अद्भूत व्यक्तित्व है “नारी”

भारत वर्ष ना केवल महापुरुषों का देश है बल्कि ये उन महान भारतीय नारियों का देश है जिन्होंने इस देश को विवेकनन्द, महर्षि रमण ,अरविन्द घोष ,रामकृष्ण परमहंस ,दयानंद ,शंकराचार्य ,भगत सिंह ,चन्द्र शेखर आज़ाद,सुभाष बाबु,वीर सावरकर जैसे महापुरुषों से अलंकृत किया है | ये देश आज भी गार्गी मदालसा,भारती,विध्योत्त्मा,अनुसूया,स्वयंप्रभा,सीता, सावित्री जैसी सतियों और विदुषियों को नही भूल पाया है|
मानव जाति ही नही अपितु ईश्वर भी नारी जाती का ऋणी है क्योकि, धर्म के सम्वर्धन और अधर्म के विनाश के लिए जब भी ईश्वर को अवतार लेना होता है तो उसे भी माँ के रूप में एक नारी की ही आवश्यकता होती है | जितना गौरवशाली इतिहास भारत वर्ष में मिलता है उतना,महान इतिहास समूचे विश्व में शायद ही किसी राष्ट्र का हो |
नारी वो जो पुरुष को जन्म देतीं है अपने आप को नारी से श्रेष्ठ समझने वाला पुरुष वर्ग ये बात भली भांति जान ले की जो नारी पुरुष को जन्म दे सकती वो नारी संसार में कुछ भी करने में सक्षम है नारी यदि पुरुष की आज्ञाओं का पालन आर्तभाव और श्रद्धा से कर रही है तो इसका अर्थ बिलकुल भी ये नही है की वो कमजोर है |ये केवल परिवार और अपने पति के प्रति उसका प्रेम और सेवा भाव है जो उसे प्रकृति ने दिया है|
नारी यदि पृकृति प्रदत्त इस गुण का त्याग कर दे तो न केवल परिवार अपितु समाज के महाविनाश का कारन भी बन सकती है | रामायण में एक घटना आती है की जब देवासुर संग्राम चल रहा था तब उसमे युद्ध करते हुए राजा दशरथ मुर्छित हो गये,उस समय कैकयी ने ही अपनी सूझ-बुझ से उनके प्राणों की रक्षा की थी आगे चल कर ये ही कैकयी मंथरा के बरगला देने के कारन भ्रमित हुई और राम वनवास के समय राजा दशरथ की मृत्यु का कारण बनी |
नारी की तुलना यदि ब्रुह्मांड की तीन प्रमुख शक्तियों ब्रुह्मा ,विष्णु और महेश से की जाए तो कोई अतिश्योक्ति नही होगी | जिस प्रकार ब्रह्मा सृस्ती का सृजन करते है उसी प्रकार नारी भी वंश रेखा को सींचती है परिवार निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है निश्चित रूप से स्त्री को परिवार का हृदय और प्राण कहा जा सकता है। परिवार का सम्पूर्ण अस्तित्व तथा वातावरण गृहिणी पर निर्भर करता है। यदि स्त्री न होती तो पुरुष को परिवार बनाने की आवश्यकता न रहती और न ही इतना क्रियाशील तथा उत्तरदायी बनने की। स्त्री का पुरुष से युग्म बनते ही परिवार की आधारशिला रख दी जाती है और साथ ही उसे अच्छा या बुरा बनाने की प्रक्रिया भी आरम्भ हो जाती है। परिवार बसाने के लिए अकेला पुरुष भी असमर्थ है और अकेली स्त्री भी, पर मुख्य भूमिका किसकी है, यह तय करना हो तो स्त्री पर ध्यान केन्द्रित हो जाता है।
नारी विष्णुं की तरह परिवार का पालन पोषण करती है समूचे परिवार को एक सूत्र में बांधकर रखने की जिम्मेदारी भी उसी की है साथ ही सबकी आवश्यकताओं का ध्यान रखना ये सब नारी का कार्यक्षेत्र है | माँ का स्नेह और संस्कारों से भावी पीढ़ी को सींचने का कार्य स्त्री ही करती है| पुरुष वर्ग केवल धनार्जन करता है लेकिन उसके प्रबंधन की बागडोर स्त्री के हाथ में होती है स्त्री चाहे साक्षर हो या निरक्षर पर हर स्त्री ये जानती है की पति की आय का उपयोग परिवार के लिए किस प्रकार हो सकता है, नारी अन्दरूनी व्यवस्था से लेकर परिवार में सुख- शान्ति और सौमनस्य के वातावरण को बनाये रखने का दायित्व भी निभाती है।
तीसरा और सबसे महत्वपूर्ण उत्तरदायित्व है परिवार को दूषित मनोवृत्तियों और समाज में फैली बुराइयों से अपने परिवार को सुरक्षित रखना पुरानो में भगवान् शिब को संहार करता बताया गया है| नारी भी परिवार में रहकर संहारक की भूमिका निभाती है जी हाँ नारी भी संहार करती है पर किसका ?
नारी संहार करती है परिवार में आई बुराइयों का आज के तनाव पूर्ण समय में जब पुरुष प्रतिकूल परिस्थितियों में अपने आप को निसहाय अनुभव करता है तो वो उनसे छुटकारा पाने के लिए बुराइयों की और अगृसर होता है | शराब, जुआ, हताशा,निराशा आदि में पुरुष घिर जाता है |जिसके फलस्वरूप परिवार का पतन शुरू होता है| ऐसी परिस्थितियों में धन्य है भारतीय नारी जो पुरुष का साथ नही छोडती बल्कि अपने प्रेम और सूझ बुझ से पति को सन्मार्ग पर ले आती है, इसी कारन वो अर्धांगिनी कहलाती है | हालांकि पुरुष को सही मार्ग पर लाने के लिए उसे अग्निपथ पर चलना पढ़ता है ,कई कष्टों और पीढ़ाओं को झेलना पढ़ता है | लेकिन नारी हार नही मानती बच्चों में श्रेष्ठ संस्कारों के सिंचन से लेकर उन्हें आदर्श मानव ही नही अपितु महा मानव बनाने तक नारी की महत्वपूर्ण भूमिका रहती है |
इतिहास बड़े गर्व के साथ शिवाजी ,महाराना प्रताप जैसे शूरवीरों का नाम लेता है लेकिन इन सूरमाओं में वीरता और मात्रभूमि के प्रति अनन्य भक्ति का बीजारोपण करने वाली माँ नारी ही थी शिवाजी के पिता मुगलों के दरबार में ही काम करते थे| लेकिन शिवाजी की माँ ने शिवा को इसे संस्कार दिए जिसने मुगलों को एक बार नही अपितु अनेको बार मराठा शक्ति के सामने विवश कर दिया | महाराणा प्रताप की माता के ही संस्कार थे की मुगल सेना को कई बार महाराणा प्रताप से युद्ध में मुँह की खानी पड़ी और जीते जी मुगल महाराणा को पकड़ ही नही पाए | इस गौरवशाली इतिहास का श्रेय किसे जाता है “नारी “को जिन्होंने न केवल ऐसे सूरमाओं को जन्म दिया अपितु श्रेष्ठ संस्कारों से सींचा | इतिहास में इसे अनेकों उदहारण भरे पड़े है जो सिद्ध करते है की नारी ही परिवार से लेकर समाज निर्माण, और समाज निर्माण से लेकर राष्ट्र निर्माण में अपना मूक योगदान देती आई है |
———–
पंकज “प्रखर ”
कोटा ,राजस्थान

Language: Hindi
Tag: लेख
670 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
करके ये वादे मुकर जायेंगे
करके ये वादे मुकर जायेंगे
Gouri tiwari
*ठहाका मारकर हँसने-हँसाने की जरूरत है【मुक्तक】*
*ठहाका मारकर हँसने-हँसाने की जरूरत है【मुक्तक】*
Ravi Prakash
आजकल के बच्चे घर के अंदर इमोशनली बहुत अकेले होते हैं। माता-प
आजकल के बच्चे घर के अंदर इमोशनली बहुत अकेले होते हैं। माता-प
पूर्वार्थ
सब दिन होते नहीं समान
सब दिन होते नहीं समान
जगदीश लववंशी
कुंंडलिया-छंद:
कुंंडलिया-छंद:
जगदीश शर्मा सहज
धरती माँ ने भेज दी
धरती माँ ने भेज दी
Dr Manju Saini
#एक_शेर
#एक_शेर
*Author प्रणय प्रभात*
परिंदा
परिंदा
VINOD CHAUHAN
ज़िंदगी में वो भी इम्तिहान आता है,
ज़िंदगी में वो भी इम्तिहान आता है,
Vandna Thakur
आंखों से बयां नहीं होते
आंखों से बयां नहीं होते
Harminder Kaur
खिंचता है मन क्यों
खिंचता है मन क्यों
Shalini Mishra Tiwari
मौत पर लिखे अशआर
मौत पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
तेरे संग मैंने
तेरे संग मैंने
लक्ष्मी सिंह
*अनमोल हीरा*
*अनमोल हीरा*
Sonia Yadav
I am Cinderella
I am Cinderella
Kavita Chouhan
मेल
मेल
Lalit Singh thakur
तौबा ! कैसा यह रिवाज
तौबा ! कैसा यह रिवाज
ओनिका सेतिया 'अनु '
श्री गणेशा
श्री गणेशा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
Mathematics Introduction .
Mathematics Introduction .
Nishant prakhar
रानी लक्ष्मीबाई का मेरे स्वप्न में आकर मुझे राष्ट्र सेवा के लिए प्रेरित करना ......(निबंध) सर्वाधिकार सुरक्षित
रानी लक्ष्मीबाई का मेरे स्वप्न में आकर मुझे राष्ट्र सेवा के लिए प्रेरित करना ......(निबंध) सर्वाधिकार सुरक्षित
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
मुराद
मुराद
Mamta Singh Devaa
गांव की ख्वाइश है शहर हो जानें की और जो गांव हो चुके हैं शहर
गांव की ख्वाइश है शहर हो जानें की और जो गांव हो चुके हैं शहर
Soniya Goswami
जीने की राह
जीने की राह
Madhavi Srivastava
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कहती गौरैया
कहती गौरैया
Dr.Pratibha Prakash
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
अब तो आ जाओ सनम
अब तो आ जाओ सनम
Ram Krishan Rastogi
23/113.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/113.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
व्यक्ति की सबसे बड़ी भक्ति और शक्ति यही होनी चाहिए कि वह खुद
व्यक्ति की सबसे बड़ी भक्ति और शक्ति यही होनी चाहिए कि वह खुद
Rj Anand Prajapati
'ਸਾਜਿਸ਼'
'ਸਾਜਿਸ਼'
विनोद सिल्ला
Loading...