Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Nov 2023 · 1 min read

अतीत

अतीत के व्योम में विचरण करते हुए ,
कुछ सुखद अनुभूति लिए ,
कुछ दुःखों को समेटे हुए ,
वारिदों से घिरा पाता हूँ ,

कुछ अपराध बोध ग्रसित पश्चाताप की
वेदना लिए ,
कुछ असहाय, निष्क्रिय मानसिकता की
यातना लिए ,

कुछ अज्ञानवश, निरापद भाव की
प्रकृति लिए ,
कुछ हीन-भावनिहित परिस्थिति से समझौतों की नियति लिए ,

क्या खोया ? क्या पाया ? के चक्र में
उलझ कर रह जाता हूँ ,
इस प्रकार अतीत की स्मृति से
मैं स्तब्ध ! किंकर्तव्यविमूढ़ होकर रह जाता हूँ।

Language: Hindi
2 Likes · 141 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
*पीड़ा*
*पीड़ा*
Dr. Priya Gupta
#देसी_ग़ज़ल / #नइयां
#देसी_ग़ज़ल / #नइयां
*Author प्रणय प्रभात*
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
Yogini kajol Pathak
हो सकता है कि अपनी खुशी के लिए कभी कभी कुछ प्राप्त करने की ज
हो सकता है कि अपनी खुशी के लिए कभी कभी कुछ प्राप्त करने की ज
Paras Nath Jha
तुम से मिलना था
तुम से मिलना था
Dr fauzia Naseem shad
बसंती बहार
बसंती बहार
Er. Sanjay Shrivastava
तितली संग बंधा मन का डोर
तितली संग बंधा मन का डोर
goutam shaw
मिटता नहीं है अंतर मरने के बाद भी,
मिटता नहीं है अंतर मरने के बाद भी,
Sanjay ' शून्य'
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
Rj Anand Prajapati
दिल में जो आता है।
दिल में जो आता है।
Taj Mohammad
सर्दी का उल्लास
सर्दी का उल्लास
Harish Chandra Pande
कुछ लोग जाहिर नहीं करते
कुछ लोग जाहिर नहीं करते
शेखर सिंह
** मन में यादों की बारात है **
** मन में यादों की बारात है **
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खारिज़ करने के तर्क / मुसाफ़िर बैठा
खारिज़ करने के तर्क / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
प्यार और नफ़रत
प्यार और नफ़रत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*बनाता स्वर्ग में जोड़ी, सुना है यह विधाता है (मुक्तक)*
*बनाता स्वर्ग में जोड़ी, सुना है यह विधाता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
~ हमारे रक्षक~
~ हमारे रक्षक~
करन ''केसरा''
When conversations occur through quiet eyes,
When conversations occur through quiet eyes,
पूर्वार्थ
मैं और वो
मैं और वो
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बेईमानी का फल
बेईमानी का फल
Mangilal 713
Compromisation is a good umbrella but it is a poor roof.
Compromisation is a good umbrella but it is a poor roof.
GOVIND UIKEY
आबाद सर ज़मीं ये, आबाद ही रहेगी ।
आबाद सर ज़मीं ये, आबाद ही रहेगी ।
Neelam Sharma
प्रकृति के आगे विज्ञान फेल
प्रकृति के आगे विज्ञान फेल
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
चाय-दोस्ती - कविता
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
2932.*पूर्णिका*
2932.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हे माधव
हे माधव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
रुसवा दिल
रुसवा दिल
Akash Yadav
मसला सुकून का है; बाकी सब बाद की बाते हैं
मसला सुकून का है; बाकी सब बाद की बाते हैं
Damini Narayan Singh
इक बार वही फिर बारिश हो
इक बार वही फिर बारिश हो
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
मित्र
मित्र
लक्ष्मी सिंह
Loading...