Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Aug 2023 · 1 min read

*अज्ञानी की कलम*

अज्ञानी की कलम
सुप्रभातम सभी को

जय-जय जन्म धात्री माता।
कुभाग्य से सुभाग्य सुजाता।।
मन-क्रम-वचन से तुम्हें ध्याता।
अज्ञानी अंधकार मिट जाता।।

जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
झांसी बुन्देलखण्ड

151 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
★
पूर्वार्थ
बोला लड्डू मैं बड़ा, रसगुल्ला बेकार ( हास्य कुंडलिया )
बोला लड्डू मैं बड़ा, रसगुल्ला बेकार ( हास्य कुंडलिया )
Ravi Prakash
महबूबा
महबूबा
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
याद तुम्हारी......।
याद तुम्हारी......।
Awadhesh Kumar Singh
जज्बात
जज्बात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सबसे क़ीमती क्या है....
सबसे क़ीमती क्या है....
Vivek Mishra
कह कर गुजर गई उस रास्ते से,
कह कर गुजर गई उस रास्ते से,
Shakil Alam
दोहे- उड़ान
दोहे- उड़ान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
असर
असर
Shyam Sundar Subramanian
"मन क्यों मौन?"
Dr. Kishan tandon kranti
I am Cinderella
I am Cinderella
Kavita Chouhan
कविता ही तो परंम सत्य से, रूबरू हमें कराती है
कविता ही तो परंम सत्य से, रूबरू हमें कराती है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अर्चना की कुंडलियां भाग 2
अर्चना की कुंडलियां भाग 2
Dr Archana Gupta
गायें गौरव गान
गायें गौरव गान
surenderpal vaidya
गणेश चतुर्थी के शुभ पावन अवसर पर सभी को हार्दिक मंगल कामनाओं के साथ...
गणेश चतुर्थी के शुभ पावन अवसर पर सभी को हार्दिक मंगल कामनाओं के साथ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
24/247. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/247. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"बोलती आँखें"
पंकज कुमार कर्ण
' समय का महत्व '
' समय का महत्व '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
थोड़ा थोड़ा
थोड़ा थोड़ा
Satish Srijan
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
सम पर रहना
सम पर रहना
Punam Pande
इक झटका सा लगा आज,
इक झटका सा लगा आज,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
💐Prodigy Love-36💐
💐Prodigy Love-36💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
""मेरे गुरु की ही कृपा है कि_
Rajesh vyas
जो जिस चीज़ को तरसा है,
जो जिस चीज़ को तरसा है,
Pramila sultan
ज़ख़्मों पे वक़्त का
ज़ख़्मों पे वक़्त का
Dr fauzia Naseem shad
■ चाची 42प का उस्ताद।
■ चाची 42प का उस्ताद।
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...