Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jun 2023 · 1 min read

*अजीब आदमी*

डा. अरुण कुमार शास्त्री / एक अबोध बालक / अरुण अतृप्त

अजीब आदमी

दर्द देकर भी कोई दवा मांगता है
अजीब आदमी है ये क्या मांगता है ||
दुखों की गागर सर पर उठाए
लोटे में अपने शिफ़ा मांगता है ||
अजीब आदमी है ये क्या मांगता है
जुबां पर है गाली लिए जेब खाली
किए कर्म त्राटक बनता है साधक
दर्द देकर भी कोई दवा मांगता है
अजीब आदमी है ये क्या मांगता है ||
सफ़ीना भंवर में के जीवन अधर में
मंजिल पे अपना मकां मांगता है
अजीब आदमी है ये क्या मांगता है
बुझा कर चरागां, वो बस्ती के सारे
अन्धेरों से अब भागना चाह्ता है ||
अजीब आदमी है ये क्या मांगता है
दर्द देकर भी कोई दवा मांगता है
अजीब आदमी है ये क्या मांगता है
कभी कोई आया जो दामन फैलाया
फट्कार कर के है उसको भगाया
जरुरत पे अपनी भर के नयन अब
दुनिया में सबसे दया मांगता है ||
अजीब आदमी है ये क्या मांगता है
अरुण तुम ही समझो ये तुम्हारी गज़ल है
लिखा जो भी तुमने, ये तेरा अजल है
पाठक तो तुम्हारी बस खुशी मांगता है ||
बुझा कर चरागां, वो बस्ती के सारे
अन्धेरों से अब भागना चाह्ता है ||
अजीब आदमी है ये क्या मांगता है
दर्द देकर भी कोई दवा मांगता है

363 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
रज़ा से उसकी अगर
रज़ा से उसकी अगर
Dr fauzia Naseem shad
रिश्ते-नाते स्वार्थ के,
रिश्ते-नाते स्वार्थ के,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बहुत दिनों के बाद उनसे मुलाकात हुई।
बहुत दिनों के बाद उनसे मुलाकात हुई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
माता रानी दर्श का
माता रानी दर्श का
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
शमा से...!!!
शमा से...!!!
Kanchan Khanna
रूह मर गई, मगर ख्वाब है जिंदा
रूह मर गई, मगर ख्वाब है जिंदा
कवि दीपक बवेजा
कोरोना काल
कोरोना काल
Sandeep Pande
तकलीफ ना होगी मरने मे
तकलीफ ना होगी मरने मे
Anil chobisa
वाणी वंदना
वाणी वंदना
Dr Archana Gupta
हमारा भारतीय तिरंगा
हमारा भारतीय तिरंगा
Neeraj Agarwal
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
शिल्पी सिंह बघेल
A heart-broken Soul.
A heart-broken Soul.
Manisha Manjari
भारत देश
भारत देश
लक्ष्मी सिंह
स्वार्थवश या आपदा में
स्वार्थवश या आपदा में
*Author प्रणय प्रभात*
जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,
जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*उठा जो देह में जादू, समझ लो आई होली है (मुक्तक)*
*उठा जो देह में जादू, समझ लो आई होली है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
आता है उनको मजा क्या
आता है उनको मजा क्या
gurudeenverma198
वक्त को कौन बांध सका है
वक्त को कौन बांध सका है
Surinder blackpen
डारा-मिरी
डारा-मिरी
Dr. Kishan tandon kranti
तेरी यादों को रखा है सजाकर दिल में कुछ ऐसे
तेरी यादों को रखा है सजाकर दिल में कुछ ऐसे
Shweta Soni
"किस बात का गुमान"
Ekta chitrangini
*
*"कार्तिक मास"*
Shashi kala vyas
भारत
भारत
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
जय भगतसिंह
जय भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
कैसे पाएं पार
कैसे पाएं पार
surenderpal vaidya
नवरात्रि के इस पावन मौके पर, मां दुर्गा के आगमन का खुशियों स
नवरात्रि के इस पावन मौके पर, मां दुर्गा के आगमन का खुशियों स
Sahil Ahmad
सुख की तलाश आंख- मिचौली का खेल है जब तुम उसे खोजते हो ,तो वह
सुख की तलाश आंख- मिचौली का खेल है जब तुम उसे खोजते हो ,तो वह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
तेवरी इसलिए तेवरी है [आलेख ] +रमेशराज
तेवरी इसलिए तेवरी है [आलेख ] +रमेशराज
कवि रमेशराज
छत्तीसगढ़ी हाइकु
छत्तीसगढ़ी हाइकु
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रेम का पुजारी हूं, प्रेम गीत ही गाता हूं
प्रेम का पुजारी हूं, प्रेम गीत ही गाता हूं
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Loading...