Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 29, 2017 · 1 min read

अजनबी

हम अजनबी थे शहर अजनबी था
किसे अपना कहते कोई नहीं था
पता पूँछते हम किससे रह गुजर का
किसको थी फुरसत कौन इतने करीब था
महज देखने को थे दिलकश नजारें
कोई लालारुख था कोई महजबीं था
लौट आये ‘अएन’ फिर अपने शहर को
बहुत साल पहले जहाँ घर कभी था

1 Like · 162 Views
You may also like:
अश्रु देकर खुद दिल बहलाऊं अरे मैं ऐसा इंसान नहीं
VINOD KUMAR CHAUHAN
प्यार का अलख
DESH RAJ
तुम्हारे जन्मदिन पर
अंजनीत निज्जर
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
कहां मालूम था इसको।
Taj Mohammad
बाबा अब जल्दी से तुम लेने आओ !
Taj Mohammad
माँ तुम सबसे खूबसूरत हो
Anamika Singh
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
एक बात... पापा, करप्शन.. लेना
Nitu Sah
¡~¡ कोयल, बुलबुल और पपीहा ¡~¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️आप क्यूँ लिखते है ?✍️
"अशांत" शेखर
लाडली की पुकार!
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
जुबान काट दी जाएगी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
सुंदर बाग़
DESH RAJ
$दोहे- हरियाली पर
आर.एस. 'प्रीतम'
आज आदमी क्या क्या भूल गया है
Ram Krishan Rastogi
कुण्डलिया
शेख़ जाफ़र खान
तमाल छंद में सभी विधाएं सउदाहरण
Subhash Singhai
करोना
AMRESH KUMAR VERMA
पप्पू और पॉलिथीन
मनोज कर्ण
हम भी है आसमां।
Taj Mohammad
मिटटी
Vikas Sharma'Shivaaya'
मां की पुण्यतिथि
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हाय गर्मी!
Manoj Kumar Sain
*श्री राजेंद्र कुमार शर्मा का निधन : एक युग का...
Ravi Prakash
यारों की आवारगी
D.k Math
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
खुशियों भरे पल
surenderpal vaidya
पाखंडी मानव
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...