Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Nov 2016 · 1 min read

अच्छे दिन आएँगे

मोदी सरकार जब करेगी सबके सपने साकार तब अच्छे दिन आएँगे ।
मोदी सरकार देगी जब योजनाओं को पूर्ण आकार तब अच्छे दिन आएँगे ।।
जब सबको उपलब्ध होगा आवास तब अच्छे दिन आएँगे ।
लक्ष्मी जी का होगा हर घर में वास तब अच्छे दिन आएँगे ।।
ना होगी जब कमी जल की तब अच्छे दिन आएँगे ।
किसी को ना होगी जब रोटी की चिंता कल की तब अच्छे दिन आएँगे ।।
जब सभी होंगे शिक्षित और अपना हक पाएँगे ।
तब अच्छे दिन आएँगे ।।
स्वच्छ होगा जब भारत तब अच्छे दिन आएँगे ।
स्वस्थ होंगे जब सब तब अच्छे दिन आएँगे।।
– नवीन कुमार जैन

Language: Hindi
2 Comments · 365 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Naveen Jain
View all
You may also like:
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
शिल्पी सिंह बघेल
हो गया जो दीदार तेरा, अब क्या चाहे यह दिल मेरा...!!!
हो गया जो दीदार तेरा, अब क्या चाहे यह दिल मेरा...!!!
AVINASH (Avi...) MEHRA
2658.*पूर्णिका*
2658.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
राधा की भक्ति
राधा की भक्ति
Dr. Upasana Pandey
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मकर पर्व स्नान दान का
मकर पर्व स्नान दान का
Dr. Sunita Singh
किसी ने दिया तो था दुआ सा कुछ....
किसी ने दिया तो था दुआ सा कुछ....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*नहीं चाहता जन्म मरण का, फिर इस जग में फेरा 【भक्ति-गीत】*
*नहीं चाहता जन्म मरण का, फिर इस जग में फेरा 【भक्ति-गीत】*
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
ऐ महबूब
ऐ महबूब
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कुछ मुझको लिखा होता
कुछ मुझको लिखा होता
Dr fauzia Naseem shad
सुप्रभात
सुप्रभात
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
आया नववर्ष
आया नववर्ष
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
बाबा साहेब अम्बेडकर / मुसाफ़िर बैठा
बाबा साहेब अम्बेडकर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
फितरत,,,
फितरत,,,
Bindravn rai Saral
खुदसे ही लड़ रहे हैं।
खुदसे ही लड़ रहे हैं।
Taj Mohammad
जहाँ सूर्य की किरण हो वहीं प्रकाश होता है,
जहाँ सूर्य की किरण हो वहीं प्रकाश होता है,
Ranjeet kumar patre
सोनेवानी के घनघोर जंगल
सोनेवानी के घनघोर जंगल
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
💐प्रेम कौतुक-327💐
💐प्रेम कौतुक-327💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
84कोसीय नैमिष परिक्रमा
84कोसीय नैमिष परिक्रमा
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ये मेरे घर की चारदीवारी भी अब मुझसे पूछती है
ये मेरे घर की चारदीवारी भी अब मुझसे पूछती है
श्याम सिंह बिष्ट
जिन्हें नशा था
जिन्हें नशा था
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
!! शिव-शक्ति !!
!! शिव-शक्ति !!
Chunnu Lal Gupta
मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम
मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम
Er.Navaneet R Shandily
मैं जान लेना चाहता हूँ
मैं जान लेना चाहता हूँ
Ajeet Malviya Lalit
करवा चौथ@)
करवा चौथ@)
Vindhya Prakash Mishra
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बदल गए
बदल गए
विनोद सिल्ला
जंगल ही ना रहे तो फिर सोचो हम क्या हो जाएंगे
जंगल ही ना रहे तो फिर सोचो हम क्या हो जाएंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
■ नूतन वर्षाभिनंदन...
■ नूतन वर्षाभिनंदन...
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...