Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2024 · 1 min read

अगीत कविता : मै क्या हूँ??

【 18—- मैं क्या हूं 】
मैं
क्या हूं
कुछ बातों की
लक्ष्मण रेखा ?
जीवन को सुखमय बनाने वाली
कोई सुविधा?
बावर्ची ?
घर की केयर टेकर ?
हर चीज का हिसाब को
एक डायरी ?
बच्चों की आया ?
पति की पत्नी ?
प्रेमिका ?
या फिर निरी रखैल ?
जो चिंतित हो उठता है
मेरे गर्भवती होने पर
और
जारी कर देता है
एक फतवा
गर्भपात का
बिना मेरी पीड़ा जाने
ले कर
नीरा एकतरफा
निर्णय
किसी तानाशाह
की तरह ।।

सुशीला जोशी, विद्योत्तमा
9719260777

Language: Hindi
1 Like · 35 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जय शिव-शंकर
जय शिव-शंकर
Anil Mishra Prahari
विशेष दिन (महिला दिवस पर)
विशेष दिन (महिला दिवस पर)
Kanchan Khanna
इंडिया दिल में बैठ चुका है दूर नहीं कर पाओगे।
इंडिया दिल में बैठ चुका है दूर नहीं कर पाओगे।
सत्य कुमार प्रेमी
माँ तो आखिर माँ है
माँ तो आखिर माँ है
Dr. Kishan tandon kranti
कविता// घास के फूल
कविता// घास के फूल
Shiva Awasthi
सहज - असहज
सहज - असहज
Juhi Grover
तारीफ तेरी, और क्या करें हम
तारीफ तेरी, और क्या करें हम
gurudeenverma198
सोचता हूँ रोज लिखूँ कुछ नया,
सोचता हूँ रोज लिखूँ कुछ नया,
Dr. Man Mohan Krishna
जिंदगी में अपने मैं होकर चिंतामुक्त मौज करता हूं।
जिंदगी में अपने मैं होकर चिंतामुक्त मौज करता हूं।
Rj Anand Prajapati
कवि होश में रहें / MUSAFIR BAITHA
कवि होश में रहें / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
ऑंखों से सीखा हमने
ऑंखों से सीखा हमने
Harminder Kaur
ढलती उम्र -
ढलती उम्र -
Seema Garg
ए'लान - ए - जंग
ए'लान - ए - जंग
Shyam Sundar Subramanian
Where is love?
Where is love?
Otteri Selvakumar
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रिश्ते की नियत
रिश्ते की नियत
पूर्वार्थ
*दलबदलू माहौल है, दलबदलू यह दौर (कुंडलिया)*
*दलबदलू माहौल है, दलबदलू यह दौर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
प्रदाता
प्रदाता
Dinesh Kumar Gangwar
सफलता
सफलता
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कहीं फूलों के किस्से हैं कहीं काँटों के किस्से हैं
कहीं फूलों के किस्से हैं कहीं काँटों के किस्से हैं
Mahendra Narayan
वक्त
वक्त
Ramswaroop Dinkar
सुविचार
सुविचार
Neeraj Agarwal
■ एक_और_बरसी...
■ एक_और_बरसी...
*प्रणय प्रभात*
तितली
तितली
Manu Vashistha
खिला है
खिला है
surenderpal vaidya
लड़को की योग्यता पर सवाल क्यो
लड़को की योग्यता पर सवाल क्यो
भरत कुमार सोलंकी
एक बार फिर ।
एक बार फिर ।
Dhriti Mishra
एक आंसू
एक आंसू
Surinder blackpen
आज नए रंगों से तूने घर अपना सजाया है।
आज नए रंगों से तूने घर अपना सजाया है।
Manisha Manjari
माना जिंदगी चलने का नाम है
माना जिंदगी चलने का नाम है
Dheerja Sharma
Loading...