Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Aug 2023 · 1 min read

प्रेम निवेश है ❤️

अक्सर इंसान गलत लोगो पर निवेश करता है ,और शिकायत करता है कि बचत नही हुई । प्रेंम ऐसा ही एक निवेश है।

Rohit

237 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"वो गुजरा जमाना"
Dr. Kishan tandon kranti
वीर पुत्र, तुम प्रियतम
वीर पुत्र, तुम प्रियतम
संजय कुमार संजू
भारत कभी रहा होगा कृषि प्रधान देश
भारत कभी रहा होगा कृषि प्रधान देश
शेखर सिंह
6-जो सच का पैरोकार नहीं
6-जो सच का पैरोकार नहीं
Ajay Kumar Vimal
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
Ravi Ghayal
"पहले मुझे लगता था कि मैं बिका नही इसलिए सस्ता हूँ
दुष्यन्त 'बाबा'
नमस्कार मित्रो !
नमस्कार मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
फागुन
फागुन
Punam Pande
बात तो कद्र करने की है
बात तो कद्र करने की है
Surinder blackpen
शराबी
शराबी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
I'm a basket full of secrets,
I'm a basket full of secrets,
Sukoon
#संडे_स्पेशल
#संडे_स्पेशल
*Author प्रणय प्रभात*
देखते देखते मंज़र बदल गया
देखते देखते मंज़र बदल गया
Atul "Krishn"
बेटियां
बेटियां
Mukesh Kumar Sonkar
हर बला से दूर रखता,
हर बला से दूर रखता,
Satish Srijan
2843.*पूर्णिका*
2843.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
खैर-ओ-खबर के लिए।
खैर-ओ-खबर के लिए।
Taj Mohammad
लोकतंत्र में भी बहुजनों की अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा / डा. मुसाफ़िर बैठा
लोकतंत्र में भी बहुजनों की अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा / डा. मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
💐प्रेम कौतुक-180💐
💐प्रेम कौतुक-180💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
नूतन सद्आचार मिल गया
नूतन सद्आचार मिल गया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
एक ख़्वाब की सी रही
एक ख़्वाब की सी रही
Dr fauzia Naseem shad
जो आपका गुस्सा सहन करके भी आपका ही साथ दें,
जो आपका गुस्सा सहन करके भी आपका ही साथ दें,
Ranjeet kumar patre
बदल गए तुम
बदल गए तुम
Kumar Anu Ojha
मैनें प्रत्येक प्रकार का हर दर्द सहा,
मैनें प्रत्येक प्रकार का हर दर्द सहा,
Aarti sirsat
लक्ष्मी अग्रिम भाग में,
लक्ष्मी अग्रिम भाग में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शब्द भावों को सहेजें शारदे माँ ज्ञान दो।
शब्द भावों को सहेजें शारदे माँ ज्ञान दो।
Neelam Sharma
सुन्दर सलोनी
सुन्दर सलोनी
जय लगन कुमार हैप्पी
*वाल्मीकि आश्रम प्रभु आए (कुछ चौपाइयॉं)*
*वाल्मीकि आश्रम प्रभु आए (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
कोई दौलत पे, कोई शौहरत पे मर गए
कोई दौलत पे, कोई शौहरत पे मर गए
The_dk_poetry
Loading...