Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2023 · 1 min read

“अक्ल बेचारा”

“अक्ल बेचारा”
कोई अक्ल के अन्धे कहे गए
कोई अक्ल के दुश्मन,
कोई अक्ल के पीछे लट्ठ लिए फिरे
कोई आंजे अक्ल के अंजन,
किसी की अक्ल पर पत्थर पड़े तो
कहीं दौड़े अक्ल के घोड़े,
जब अक्ल चकराने लग जाए तो
लगाना अक्ल थोड़े-थोड़े।

7 Likes · 2 Comments · 392 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
मैं नारी हूँ, मैं जननी हूँ
मैं नारी हूँ, मैं जननी हूँ
Awadhesh Kumar Singh
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
डॉ०प्रदीप कुमार दीप
*
*"सीता जी का अवतार"*
Shashi kala vyas
पहाड़ों की हंसी ठिठोली
पहाड़ों की हंसी ठिठोली
Shankar N aanjna
*मतलब इस संसार का, समझो एक सराय (कुंडलिया)*
*मतलब इस संसार का, समझो एक सराय (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
न जाने कौन रह गया भीगने से शहर में,
न जाने कौन रह गया भीगने से शहर में,
शेखर सिंह
मेरे हमदर्द मेरे हमराह, बने हो जब से तुम मेरे
मेरे हमदर्द मेरे हमराह, बने हो जब से तुम मेरे
gurudeenverma198
" सुर्ख़ गुलाब "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
निकलो…
निकलो…
Rekha Drolia
जेसे दूसरों को खुशी बांटने से खुशी मिलती है
जेसे दूसरों को खुशी बांटने से खुशी मिलती है
shabina. Naaz
जीवन में कुछ भी स्थायी नहीं है। न सुख, न दुःख,न नौकरी, न रिश
जीवन में कुछ भी स्थायी नहीं है। न सुख, न दुःख,न नौकरी, न रिश
पूर्वार्थ
रूह का रिश्ता
रूह का रिश्ता
Seema gupta,Alwar
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
Yogini kajol Pathak
निर्माण विध्वंस तुम्हारे हाथ
निर्माण विध्वंस तुम्हारे हाथ
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
■ ज़िंदगी मुग़ालतों का नाम।
■ ज़िंदगी मुग़ालतों का नाम।
*Author प्रणय प्रभात*
चाय और सिगरेट
चाय और सिगरेट
आकाश महेशपुरी
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Mukesh Kumar Sonkar
Dark Web and it's Potential Threats
Dark Web and it's Potential Threats
Shyam Sundar Subramanian
जंजीर
जंजीर
AJAY AMITABH SUMAN
बसंत
बसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मां
मां
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
3105.*पूर्णिका*
3105.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
गर समझते हो अपने स्वदेश को अपना घर
गर समझते हो अपने स्वदेश को अपना घर
ओनिका सेतिया 'अनु '
शिक्षा
शिक्षा
Neeraj Agarwal
एक नम्बर सबके फोन में ऐसा होता है
एक नम्बर सबके फोन में ऐसा होता है
Rekha khichi
बेशक मां बाप हर ख़्वाहिश करते हैं
बेशक मां बाप हर ख़्वाहिश करते हैं
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
रचनात्मकता ; भविष्य की जरुरत
रचनात्मकता ; भविष्य की जरुरत
कवि अनिल कुमार पँचोली
लिखता हम त मैथिल छी ,मैथिली हम नहि बाजि सकैत छी !बच्चा सभक स
लिखता हम त मैथिल छी ,मैथिली हम नहि बाजि सकैत छी !बच्चा सभक स
DrLakshman Jha Parimal
एक पल सुकुन की गहराई
एक पल सुकुन की गहराई
Pratibha Pandey
Loading...