Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2017 · 1 min read

अकेला

जीवन में चल ए इंसान तून अकेला,
इस में कभी ,नहीं है कोइ झमेला,
किस के भरोसे कि आशा करता है,
भगवान् तुझ से पहले खड़ा है अकेला !!

गर फंस जाओ तुम किसी भंवर में,
याद रखना उस को हर डगर में,
जीवन पथ काँटों भरा क्यों न हो ?
खुश रखना दिल को हर सफ़र में !!

जिन्दगी अकेला ही चलने का नाम है,
अकेला चला था वहां से, पहुंचा अकेला यहाँ पे,
अकेले के साथ ऊपर वाला है हर पल
फिर डर क्यों लगता है अकेले के नाम से !!

किसी का साथ मिले न मिले तून चल अकेला,
कश्तियाँ जिन्दगी कि पार कर बस तून अकेला,
जीवन कि गहरायिओं को समझ तून अकेला,
जीवन में कांटो का ताज तून पहन बंदी अकेला !!

कवि अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
231 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-146 के चयनित दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-146 के चयनित दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"सत्य अमर है"
Ekta chitrangini
कुछ
कुछ
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
जग जननी है जीवनदायनी
जग जननी है जीवनदायनी
Buddha Prakash
9. पोंथी का मद
9. पोंथी का मद
Rajeev Dutta
विचार, संस्कार और रस [ तीन ]
विचार, संस्कार और रस [ तीन ]
कवि रमेशराज
नादानी
नादानी
Shaily
*हारा कब हारा नहीं, दिलवाया जब हार (हास्य कुंडलिया)*
*हारा कब हारा नहीं, दिलवाया जब हार (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मैं आग नही फिर भी चिंगारी का आगाज हूं,
मैं आग नही फिर भी चिंगारी का आगाज हूं,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
टूटा हूँ इतना कि जुड़ने का मन नही करता,
टूटा हूँ इतना कि जुड़ने का मन नही करता,
Vishal babu (vishu)
गाँव का दृश्य (गीत)
गाँव का दृश्य (गीत)
प्रीतम श्रावस्तवी
■ नया शब्द ■
■ नया शब्द ■
*Author प्रणय प्रभात*
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
Sanjay ' शून्य'
प्रकृति (द्रुत विलम्बित छंद)
प्रकृति (द्रुत विलम्बित छंद)
Vijay kumar Pandey
बेदर्द ...................................
बेदर्द ...................................
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
आज भी मुझे मेरा गांव याद आता है
आज भी मुझे मेरा गांव याद आता है
Praveen Sain
ईश्वर का जाल और मनुष्य
ईश्वर का जाल और मनुष्य
Dr MusafiR BaithA
ईश्वर
ईश्वर
Neeraj Agarwal
गुड़िया
गुड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ओ अच्छा मुस्कराती है वो फिर से रोने के बाद /लवकुश यादव
ओ अच्छा मुस्कराती है वो फिर से रोने के बाद /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
* शक्ति है सत्य में *
* शक्ति है सत्य में *
surenderpal vaidya
23/05.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/05.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
What I wished for is CRISPY king
What I wished for is CRISPY king
Ankita Patel
बड़ा मुश्किल है ये लम्हे,पल और दिन गुजारना
बड़ा मुश्किल है ये लम्हे,पल और दिन गुजारना
'अशांत' शेखर
जिन्दगी की शाम
जिन्दगी की शाम
Bodhisatva kastooriya
जस गीत
जस गीत
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
जन अधिनायक ! मंगल दायक! भारत देश सहायक है।
जन अधिनायक ! मंगल दायक! भारत देश सहायक है।
Neelam Sharma
उसे अंधेरे का खौफ है इतना कि चाँद को भी सूरज कह दिया।
उसे अंधेरे का खौफ है इतना कि चाँद को भी सूरज कह दिया।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
भैतिक सुखों का आनन्द लीजिए,
भैतिक सुखों का आनन्द लीजिए,
Satish Srijan
Loading...