Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Aug 2023 · 1 min read

अकेलापन

अकेलापन ही जीवन का सच कहता हैं।
तुम और हम सभी अपने जीवन मानते हैं।

चाहत इश्क मोहब्बत भी एक समय होता हैं।
बस जिंदगी में हम सभी को अकेलापन रहता हैं।

आज में ही बस जरूरत जीने की रहती हैं।
कल पल का न सच हम सभी को मालूम हैं।

न तेरा न मेरा साथ बस एक सोच और समझ हैं।
अकेलापन ही हम सबके साथ साथ रहता हैं।

सच तो बस समय और हम खुद समझते हैं।
हां अकेलापन ही हम सफर रंगमंच पर होता हैं।

किरदार निभा एक किराएदार की बात कहते हैं।
शरीर और मोह माया भी एक अकेलापन होता हैं।

आओ संग साथ दोस्त बनकर साथ निभाते हैं।
अकेलापन दूर हो एक संगठन हम बनाते हैं।

नीरज अग्रवाल चंदौसी उ.प्र

Language: Hindi
116 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अगर जाना था उसको
अगर जाना था उसको
कवि दीपक बवेजा
गीत
गीत
Shiva Awasthi
🌷साथ देते है कौन यहाँ 🌷
🌷साथ देते है कौन यहाँ 🌷
Dr.Khedu Bharti
भुला भुला कर के भी नहीं भूल पाओगे,
भुला भुला कर के भी नहीं भूल पाओगे,
Buddha Prakash
वर दें हे मॉं शारदा, आए सच्चा ज्ञान (कुंडलिया)
वर दें हे मॉं शारदा, आए सच्चा ज्ञान (कुंडलिया)
Ravi Prakash
युवा दिवस
युवा दिवस
Tushar Jagawat
हम भी अपनी नज़र में
हम भी अपनी नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
जहर मे भी इतना जहर नही होता है,
जहर मे भी इतना जहर नही होता है,
Ranjeet kumar patre
!..........!
!..........!
शेखर सिंह
अंदर का चोर
अंदर का चोर
Shyam Sundar Subramanian
जो उनसे पूछा कि हम पर यक़ीं नहीं रखते
जो उनसे पूछा कि हम पर यक़ीं नहीं रखते
Anis Shah
मुकद्दर से ज्यादा
मुकद्दर से ज्यादा
rajesh Purohit
लर्जिश बड़ी है जुबान -ए -मोहब्बत में अब तो
लर्जिश बड़ी है जुबान -ए -मोहब्बत में अब तो
सिद्धार्थ गोरखपुरी
■
■ "मान न मान, मैं तेरा मेहमान" की लीक पर चलने का सीधा सा मतल
*Author प्रणय प्रभात*
अज़ल से इंतजार किसका है
अज़ल से इंतजार किसका है
Shweta Soni
एक रूपक ज़िन्दगी का,
एक रूपक ज़िन्दगी का,
Radha shukla
🌺हे परम पिता हे परमेश्वर 🙏🏻
🌺हे परम पिता हे परमेश्वर 🙏🏻
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
मेला झ्क आस दिलों का ✍️✍️
मेला झ्क आस दिलों का ✍️✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
भगवान
भगवान
Anil chobisa
कब टूटा है
कब टूटा है
sushil sarna
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"शब्द"
Dr. Kishan tandon kranti
अच्छा रहता
अच्छा रहता
Pratibha Pandey
💐प्रेम कौतुक-477💐
💐प्रेम कौतुक-477💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरी धुन में, तेरी याद,
मेरी धुन में, तेरी याद,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नैह
नैह
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
देवो रुष्टे गुरुस्त्राता गुरु रुष्टे न कश्चन:।गुरुस्त्राता ग
देवो रुष्टे गुरुस्त्राता गुरु रुष्टे न कश्चन:।गुरुस्त्राता ग
Shashi kala vyas
वो ख्वाबों में अब भी चमन ढूंढ़ते हैं।
वो ख्वाबों में अब भी चमन ढूंढ़ते हैं।
Phool gufran
तुम मुझे देखकर मुस्कुराने लगे
तुम मुझे देखकर मुस्कुराने लगे
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
चंदा का अर्थशास्त्र
चंदा का अर्थशास्त्र
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...