Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2024 · 1 min read

अकथ कथा

🥀प्रेम मूर्ति राधा ! राधा !!🥀
🌹🙏🌹
रात भी स्वर्णिम हुई, शुभप्रभात साजन।
जगी उषा किया मधु, से स्‍नात साजन।
प्रीति पिया हमको मिली सौगात साजन।
ऐसे मिले हम हुआ, एक गात साजन।

दुग्ध उज्ज्वल में नहाई शुभ्र कौमुदी है।
प्रेम परिणय प्रणय बहती नदी है।
हर लता-तरु में प्रणय की छिड़ी रागिनी है।
देखो इंदीवर, रिझाती शरद चाँदनी है।
रात भी स्वर्णिम हुई, शुभप्रभात साजन।
जगी उषा किया मधु, से स्‍नात साजन।

कह दो प्रियतम आज तुम मेरे लिए हो!
बोल दो न बात क्यों तुम लब सीये हो!
प्रणय तृषा का आप ही मधुरस पीये हो।
हर श्वास मेरी आप ही धड़कन हिये हो।
रात भी स्वर्णिम हुई, शुभप्रभात साजन।
जगी उषा किया मधु, से स्‍नात साजन।

प्रेम हिया-वीणा प्रिय तुमने कसी है।
स्‍वर्ग सा उल्‍लास भर, खिलती हँसी है।
आप ही बस आप अन्तर में बसे हो।
अनमोल नीलम से तुम्हीं मुझको लसे हो।
रात भी स्वर्णिम हुई, शुभप्रभात साजन।
जगी उषा किया मधु, से स्‍नात साजन।
नीलम शर्मा ✍️
🥀कृष्ण पूर्ति राधा ! राधा !!🥀
🌹🙏🌹

Language: Hindi
1 Like · 52 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन दर्शन मेरी नज़र से. .
जीवन दर्शन मेरी नज़र से. .
Satya Prakash Sharma
आजकल के परिवारिक माहौल
आजकल के परिवारिक माहौल
पूर्वार्थ
कुछ अजीब सा चल रहा है ये वक़्त का सफ़र,
कुछ अजीब सा चल रहा है ये वक़्त का सफ़र,
Shivam Sharma
बंटते हिन्दू बंटता देश
बंटते हिन्दू बंटता देश
विजय कुमार अग्रवाल
19, स्वतंत्रता दिवस
19, स्वतंत्रता दिवस
Dr Shweta sood
*बहकाए हैं बिना-पढ़े जो, उनको क्या समझाओगे (हिंदी गजल/गीतिक
*बहकाए हैं बिना-पढ़े जो, उनको क्या समझाओगे (हिंदी गजल/गीतिक
Ravi Prakash
ये संगम दिलों का इबादत हो जैसे
ये संगम दिलों का इबादत हो जैसे
VINOD CHAUHAN
जानते हो मेरे जीवन की किताब का जैसे प्रथम प्रहर चल रहा हो और
जानते हो मेरे जीवन की किताब का जैसे प्रथम प्रहर चल रहा हो और
Swara Kumari arya
मुझमें अभी भी प्यास बाकी है ।
मुझमें अभी भी प्यास बाकी है ।
Arvind trivedi
चंदन माँ पन्ना की कल्पनाएँ
चंदन माँ पन्ना की कल्पनाएँ
Anil chobisa
तथाकथित धार्मिक बोलबाला झूठ पर आधारित है
तथाकथित धार्मिक बोलबाला झूठ पर आधारित है
Mahender Singh
बाबा मैं हर पल तुम्हारे अस्तित्व को महसूस करती हुं
बाबा मैं हर पल तुम्हारे अस्तित्व को महसूस करती हुं
Ankita Patel
मेरी अम्मा तेरी मॉम
मेरी अम्मा तेरी मॉम
Satish Srijan
ऐसी बरसात भी होती है
ऐसी बरसात भी होती है
Surinder blackpen
कब बोला था / मुसाफ़िर बैठा
कब बोला था / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
***कृष्णा ***
***कृष्णा ***
Kavita Chouhan
जो होता है सही  होता  है
जो होता है सही होता है
Anil Mishra Prahari
🙏 * गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 * गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
लोककवि रामचरन गुप्त के लोकगीतों में आनुप्रासिक सौंदर्य +ज्ञानेन्द्र साज़
लोककवि रामचरन गुप्त के लोकगीतों में आनुप्रासिक सौंदर्य +ज्ञानेन्द्र साज़
कवि रमेशराज
दिल को लगाया है ,तुझसे सनम ,   रहेंगे जुदा ना ,ना  बिछुड़ेंगे
दिल को लगाया है ,तुझसे सनम , रहेंगे जुदा ना ,ना बिछुड़ेंगे
DrLakshman Jha Parimal
चांद पर चंद्रयान, जय जय हिंदुस्तान
चांद पर चंद्रयान, जय जय हिंदुस्तान
Vinod Patel
शुभकामना संदेश
शुभकामना संदेश
Rajni kapoor
#बोध_काव्य-
#बोध_काव्य-
*Author प्रणय प्रभात*
वक्त का घुमाव तो
वक्त का घुमाव तो
Mahesh Tiwari 'Ayan'
लाख दुआएं दूंगा मैं अब टूटे दिल से
लाख दुआएं दूंगा मैं अब टूटे दिल से
Shivkumar Bilagrami
गुरु
गुरु
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"वो दिन दूर नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
बन रहा भव्य मंदिर कौशल में राम लला भी आयेंगे।
बन रहा भव्य मंदिर कौशल में राम लला भी आयेंगे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
2551.*पूर्णिका*
2551.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एहसास
एहसास
Shutisha Rajput
Loading...