Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 May 2024 · 1 min read

अंधविश्वास

विश्वास सामाजिक संबंधों का आधर ईश्वर आस्था जीवन नैतिक मूल्यों का सार सारांश ।।

विश्वास अंधा हो जाता मानवता शर्मशार मानव निहित स्वार्थ में दल दल में गिर जाता जिंदा ही मर जाता इंसान।।

रक्त पिपाशु नरभक्षी सा दानव बन जाता अंधविश्वास अबोध में अंतर खास अंध विश्वास कलुषित कलह द्वेष दम्भ का मार्ग ।।

अबोध निर्मल निर्झर निर्विकार बहता जल समान नैतिकता में आंख का पानी मर जाता धर्म कर्म का अंतर मिट जाता घृणा घाव प्रहार ।।

सिलसिला बन जाता समाज राष्ट्र क्रुरता कि भट्टी में भुनता
अंधविश्वास बीमारी है कुरीतियों कि महामारी है धर्म अधर्म शुभ में अशुभ अहंकार।।

Language: Hindi
35 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
8) दिया दर्द वो
8) दिया दर्द वो
पूनम झा 'प्रथमा'
चुप
चुप
Ajay Mishra
व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपक
व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपक
Rj Anand Prajapati
संग सबा के
संग सबा के
sushil sarna
युद्ध
युद्ध
Shashi Mahajan
वक्त से पहले..
वक्त से पहले..
Harminder Kaur
*अम्मा*
*अम्मा*
Ashokatv
**विकास**
**विकास**
Awadhesh Kumar Singh
.....,
.....,
शेखर सिंह
राम काव्य मन्दिर बना,
राम काव्य मन्दिर बना,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कब बरसोगे बदरा
कब बरसोगे बदरा
Slok maurya "umang"
ਕਿਸਾਨੀ ਸੰਘਰਸ਼
ਕਿਸਾਨੀ ਸੰਘਰਸ਼
Surinder blackpen
2347.पूर्णिका
2347.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ख़यालों के परिंदे
ख़यालों के परिंदे
Anis Shah
!!
!! "सुविचार" !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
बहुत कुछ जान के जाना है तुमको, बहुत कुछ समझ के पहचाना है तुम
बहुत कुछ जान के जाना है तुमको, बहुत कुछ समझ के पहचाना है तुम
पूर्वार्थ
जिंदगी का एक और अच्छा दिन,
जिंदगी का एक और अच्छा दिन,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जिन्दगी
जिन्दगी
लक्ष्मी सिंह
जीवन के अंतिम पड़ाव पर लोककवि रामचरन गुप्त द्वारा लिखी गयीं लघुकथाएं
जीवन के अंतिम पड़ाव पर लोककवि रामचरन गुप्त द्वारा लिखी गयीं लघुकथाएं
कवि रमेशराज
"ताकीद"
Dr. Kishan tandon kranti
धुंध छाई उजाला अमर चाहिए।
धुंध छाई उजाला अमर चाहिए।
Rajesh Tiwari
मुश्किलों से हरगिज़ ना घबराना *श
मुश्किलों से हरगिज़ ना घबराना *श
Neeraj Agarwal
हर किसी में आम हो गयी है।
हर किसी में आम हो गयी है।
Taj Mohammad
चतुर लोमड़ी
चतुर लोमड़ी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
एक ही राम
एक ही राम
Satish Srijan
संयम रख ऐ जिंदगी, बिखर सी गई हू |
संयम रख ऐ जिंदगी, बिखर सी गई हू |
Sakshi Singh
*सत्ता कब किसकी रही, सदा खेलती खेल (कुंडलिया)*
*सत्ता कब किसकी रही, सदा खेलती खेल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बचपन
बचपन
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जिन्दगी में फैंसले और फ़ासले सोच समझ कर कीजिएगा !!
जिन्दगी में फैंसले और फ़ासले सोच समझ कर कीजिएगा !!
Lokesh Sharma
Loading...