Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2023 · 1 min read

*अंगूर (बाल कविता)*

अंगूर (बाल कविता)

मीठे रस के हैं अंगूर
गुच्छे लेकिन लटके दूर
सुंदर हैं यह मन ललचाते
बड़े शौक से इनको खाते
बलवर्धक अंगूर कहाते
इसीलिए हैं सबको भाते

रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

510 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
आज बगिया में था सम्मेलन
आज बगिया में था सम्मेलन
VINOD CHAUHAN
संसाधन का दोहन
संसाधन का दोहन
Buddha Prakash
देखी है हमने हस्तियां कई
देखी है हमने हस्तियां कई
KAJAL NAGAR
पेड़ पौधों के बिना ताजी हवा ढूंढेंगे लोग।
पेड़ पौधों के बिना ताजी हवा ढूंढेंगे लोग।
सत्य कुमार प्रेमी
दोय चिड़कली
दोय चिड़कली
Rajdeep Singh Inda
वो सांझ
वो सांझ
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
प्यार के सरोवर मे पतवार होगया।
प्यार के सरोवर मे पतवार होगया।
Anil chobisa
आजमाइश
आजमाइश
AJAY AMITABH SUMAN
अशोक चाँद पर
अशोक चाँद पर
Satish Srijan
3467🌷 *पूर्णिका* 🌷
3467🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
!..........!
!..........!
शेखर सिंह
❤️सिर्फ़ तुझे ही पाया है❤️
❤️सिर्फ़ तुझे ही पाया है❤️
Srishty Bansal
हम वह मिले तो हाथ मिलाया
हम वह मिले तो हाथ मिलाया
gurudeenverma198
आज पुराने ख़त का, संदूक में द़ीद़ार होता है,
आज पुराने ख़त का, संदूक में द़ीद़ार होता है,
SPK Sachin Lodhi
चाँदनी .....
चाँदनी .....
sushil sarna
तुम्हें पाना-खोना एकसार सा है--
तुम्हें पाना-खोना एकसार सा है--
Shreedhar
नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब
नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब
Shweta Soni
If I were the ocean,
If I were the ocean,
पूर्वार्थ
#मंगलकामनाएं
#मंगलकामनाएं
*प्रणय प्रभात*
मजदूर हूँ साहेब
मजदूर हूँ साहेब
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
"क्रान्ति"
Dr. Kishan tandon kranti
मॉडर्न किसान
मॉडर्न किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तस्वीरें
तस्वीरें
Kanchan Khanna
*खोया अपने आप में, करता खुद की खोज (कुंडलिया)*
*खोया अपने आप में, करता खुद की खोज (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हर किसी को कहा मोहब्बत के गम नसीब होते हैं।
हर किसी को कहा मोहब्बत के गम नसीब होते हैं।
Phool gufran
साधना
साधना
Vandna Thakur
दादी माँ - कहानी
दादी माँ - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
किसी को उदास पाकर
किसी को उदास पाकर
Shekhar Chandra Mitra
Loading...