Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Mar 2023 · 1 min read

Us jamane se iss jamane tak ka safar ham taye karte rhe

Us jamane se iss jamane tak ka safar ham taye karte rhe
Ham un par marte rahe , wo kisi aur ki baho me aahe bharte rahe. 😍 by sakshi

87 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
जिंदगी में गम ना हो तो क्या जिंदगी
जिंदगी में गम ना हो तो क्या जिंदगी
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
बदले-बदले गाँव / (नवगीत)
बदले-बदले गाँव / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
💐प्रेम कौतुक-448💐
💐प्रेम कौतुक-448💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तेरे बाद
तेरे बाद
Surinder blackpen
सितम तो ऐसा कि हम उसको छू नहीं सकते,
सितम तो ऐसा कि हम उसको छू नहीं सकते,
Vishal babu (vishu)
तो अब यह सोचा है मैंने
तो अब यह सोचा है मैंने
gurudeenverma198
कैसा गीत लिखूं
कैसा गीत लिखूं
नवीन जोशी 'नवल'
माना तुम्हारे मुकाबिल नहीं मैं ...
माना तुम्हारे मुकाबिल नहीं मैं ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मरासिम
मरासिम
Shyam Sundar Subramanian
हर रिश्ता
हर रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
Maroof aalam
🌲प्रकृति
🌲प्रकृति
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*पागलपन है चाकू-छुरियाँ, दंगा और फसाद( हिंदी गजल/गीतिका)*
*पागलपन है चाकू-छुरियाँ, दंगा और फसाद( हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
चाहती हूं मैं
चाहती हूं मैं
Divya Mishra
जाति जनगणना
जाति जनगणना
मनोज कर्ण
खंड: 1
खंड: 1
Rambali Mishra
ख़ुद को खूब निरेख
ख़ुद को खूब निरेख
Chunnu Lal Gupta
जय जय जगदम्बे
जय जय जगदम्बे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Raat gai..
Raat gai..
Vandana maurya
धोखा
धोखा
Sanjay
"होरी"
Dr. Kishan tandon kranti
बुद्ध के संग अब जाऊँगा ।
बुद्ध के संग अब जाऊँगा ।
Buddha Prakash
भारत
भारत
नन्दलाल सुथार "राही"
अवसर
अवसर
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Sharminda kyu hai mujhse tu aye jindagi,
Sharminda kyu hai mujhse tu aye jindagi,
Sakshi Tripathi
😢शर्मनाक दोगलापन😢
😢शर्मनाक दोगलापन😢
*Author प्रणय प्रभात*
बुद्ध ही बुद्ध
बुद्ध ही बुद्ध
Shekhar Chandra Mitra
प्रणय 8
प्रणय 8
Ankita Patel
जिस प्रकार प्रथ्वी का एक अंश अँधेरे में रहकर आँखें मूँदे हुए
जिस प्रकार प्रथ्वी का एक अंश अँधेरे में रहकर आँखें मूँदे हुए
Nav Lekhika
माता के नौ रूप
माता के नौ रूप
Dr. Sunita Singh
Loading...