Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Dec 2023 · 1 min read

Scattered existence,

Scattered existence,
Shattered dreams,
Burning solitudes…

How many beautiful gifts does
this incomplete love bestow…

#Broke #Random

143 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मईया के आने कि आहट
मईया के आने कि आहट
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बात बनती हो जहाँ,  बात बनाए रखिए ।
बात बनती हो जहाँ, बात बनाए रखिए ।
Rajesh Tiwari
" हैं पलाश इठलाये "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
माधव मालती (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
माधव मालती (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
Subhash Singhai
तुम लौट आओ ना
तुम लौट आओ ना
Anju ( Ojhal )
मे गांव का लड़का हु इसलिए
मे गांव का लड़का हु इसलिए
Ranjeet kumar patre
ہر طرف رنج ہے، آلام ہے، تنہائی ہے
ہر طرف رنج ہے، آلام ہے، تنہائی ہے
अरशद रसूल बदायूंनी
चलना, लड़खड़ाना, गिरना, सम्हलना सब सफर के आयाम है।
चलना, लड़खड़ाना, गिरना, सम्हलना सब सफर के आयाम है।
Sanjay ' शून्य'
तलाश हमें  मौके की नहीं मुलाकात की है
तलाश हमें मौके की नहीं मुलाकात की है
Tushar Singh
हर मंजिल के आगे है नई मंजिल
हर मंजिल के आगे है नई मंजिल
कवि दीपक बवेजा
ये बात पूछनी है - हरवंश हृदय....🖋️
ये बात पूछनी है - हरवंश हृदय....🖋️
हरवंश हृदय
फितरत
फितरत
Awadhesh Kumar Singh
दीपों की माला
दीपों की माला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कविता-
कविता- "हम न तो कभी हमसफ़र थे"
Dr Tabassum Jahan
* सुन्दर झुरमुट बांस के *
* सुन्दर झुरमुट बांस के *
surenderpal vaidya
■ गीत (दर्शन)
■ गीत (दर्शन)
*Author प्रणय प्रभात*
"बहुत दिनों से"
Dr. Kishan tandon kranti
#शीर्षक- 55 वर्ष, बचपन का पंखा
#शीर्षक- 55 वर्ष, बचपन का पंखा
Anil chobisa
💐प्रेम कौतुक-442💐
💐प्रेम कौतुक-442💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*सुमित्रा (कुंडलिया)*
*सुमित्रा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
यादें....!!!!!
यादें....!!!!!
Jyoti Khari
*अद्वितीय गुणगान*
*अद्वितीय गुणगान*
Dushyant Kumar
दिल की गुज़ारिश
दिल की गुज़ारिश
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मज़हब नहीं सिखता बैर
मज़हब नहीं सिखता बैर
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
#शर्माजीकेशब्द
#शर्माजीकेशब्द
pravin sharma
गौरवमय पल....
गौरवमय पल....
डॉ.सीमा अग्रवाल
कैसे यह अनुबंध हैं, कैसे यह संबंध ।
कैसे यह अनुबंध हैं, कैसे यह संबंध ।
sushil sarna
परशुराम का परशु खरीदो,
परशुराम का परशु खरीदो,
Satish Srijan
Feel of love
Feel of love
Shutisha Rajput
जब किसान के बेटे को गोबर में बदबू आने लग जाए
जब किसान के बेटे को गोबर में बदबू आने लग जाए
शेखर सिंह
Loading...