Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jun 2020 · 1 min read

रिश्ता

तुम्हारे साथ गुजरे एक एक लम्हे का
हिसाब तो नही है मेरे पास।

जिंदगी इस तरह सहेज कर तो नही रखी मैंने।

किसी रिश्तेदार के मकान में
सोफे पर बैठी एक शर्मीली सी लड़की
ने पहली बार सकुचाते हुए पूछा था
आपको गुस्सा तो नही आता न?

बात वहीं से शुरू हुई थी।

तुम्हारी झुकती हुई पलकों और साड़ी के कोने को उंगलियों में लपेटे हुए
वो पल अब भी वहीं रुका हुआ है।

जिंदगी के इस पड़ाव पर आकर,

जब बच्चे कद निकाल कर खड़े हो गए हैं।

अपने इर्द गिर्द बिखरे लम्हों में

एक रिश्ता अपनी तमाम खूबसूरती के साथ आज भी
कायम है।

अपनी पेशानी पर छलके पसीने की
बूंदों को पल्लू से पोंछती
किचन से आती एक तेज, झुँझलाती आवाज
कि
खाना कब का लग चुका है
अब TV देखना बन्द कीजिये।

ये आवाज़ धीरे धीरे तब्दील होकर

फिर धीमे से वहीं लौट जाती है।

आपको गुस्सा तो नही आता न?

और मैं मुस्कुराते हुए खाने की मेज की
ओर बढ़ जाता हूँ।

तुम्हारे और मेरे बीच के अनगिनत
लम्हे इसी तरह कुलाचें मार कर
दृष्टिपटल पर आकर ठहरते
और फिर दौड़ जाते है
अतीत की ओर।

ये साझा लम्हें तुम्हारे और
मेरे पास
महफूज है किसी कोने में।

अतीत और वर्तमान की दूरियों
के बीच।

Language: Hindi
2 Likes · 4 Comments · 624 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Umesh Kumar Sharma
View all
You may also like:
"नृत्य आत्मा की भाषा है। आत्मा और परमात्मा के बीच अन्तरसंवाद
*प्रणय प्रभात*
स्वास्थ्य बिन्दु - ऊर्जा के हेतु
स्वास्थ्य बिन्दु - ऊर्जा के हेतु
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आज भी
आज भी
Dr fauzia Naseem shad
इसरो का आदित्य
इसरो का आदित्य
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
भाई दोज
भाई दोज
Ram Krishan Rastogi
तुम ही मेरी जाँ हो
तुम ही मेरी जाँ हो
SURYA PRAKASH SHARMA
2875.*पूर्णिका*
2875.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*गर्मी पर दोहा*
*गर्मी पर दोहा*
Dushyant Kumar
****माता रानी आई ****
****माता रानी आई ****
Kavita Chouhan
तेरी फ़ितरत, तेरी कुदरत
तेरी फ़ितरत, तेरी कुदरत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"कष्ट"
नेताम आर सी
2- साँप जो आस्तीं में पलते हैं
2- साँप जो आस्तीं में पलते हैं
Ajay Kumar Vimal
बिना शर्त खुशी
बिना शर्त खुशी
Rohit yadav
कैसे हमसे प्यार करोगे
कैसे हमसे प्यार करोगे
KAVI BHOLE PRASAD NEMA CHANCHAL
प्रकृति
प्रकृति
Bodhisatva kastooriya
बेचैन थी लहरें समंदर की अभी तूफ़ान से - मीनाक्षी मासूम
बेचैन थी लहरें समंदर की अभी तूफ़ान से - मीनाक्षी मासूम
Meenakshi Masoom
"समरसता"
Dr. Kishan tandon kranti
एक शेर
एक शेर
Ravi Prakash
नज़रों में तेरी झाँकूँ तो, नज़ारे बाहें फैला कर बुलाते हैं।
नज़रों में तेरी झाँकूँ तो, नज़ारे बाहें फैला कर बुलाते हैं।
Manisha Manjari
गले लगा लेना
गले लगा लेना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
माना की आग नहीं थी,फेरे नहीं थे,
माना की आग नहीं थी,फेरे नहीं थे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
रिश्ता
रिश्ता
Santosh Shrivastava
আমি তোমাকে ভালোবাসি
আমি তোমাকে ভালোবাসি
Otteri Selvakumar
नलिनी छंद /भ्रमरावली छंद
नलिनी छंद /भ्रमरावली छंद
Subhash Singhai
एक सलाह, नेक सलाह
एक सलाह, नेक सलाह
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
चीत्कार रही मानवता,मानव हत्याएं हैं जारी
चीत्कार रही मानवता,मानव हत्याएं हैं जारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
किसी से दोस्ती ठोक–बजा कर किया करो, नहीं तो, यह बालू की भीत साबित
किसी से दोस्ती ठोक–बजा कर किया करो, नहीं तो, यह बालू की भीत साबित
Dr MusafiR BaithA
एस. पी.
एस. पी.
Dr. Pradeep Kumar Sharma
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
रमेशराज के दस हाइकु गीत
रमेशराज के दस हाइकु गीत
कवि रमेशराज
Loading...