Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2024 · 1 min read

Ramal musaddas saalim

Ramal musaddas saalim
faa’ilaatun faa’ilaatun faa’ilaatun
2122 2122 2122
वादों की रस्सी में तनाव आ गया है
चर्चे मंदिर के हैं चुनाव आ गया है
#
आजकल होने लगी है बस गलतियां
चहरा ज्यादा कुछ खिचाव आ गया है
#
जूझती रोगी उफ नदी पांच सालों
अब की बारिश कैसा बहाव आ गया है
#
वे उठाने राजी होंगे आज परचम
अब इरादों इनके बदलाव आ गया है
#
बोलेगा कोई तो उठेगी लहर भी
क्यों समुंदर रस्ते कटाव आ गया है
#
खेलना आता कयामत तक हमी से
देख मूँछों में वही ताव आ गया है
#
रास्ता मुड कर था देखा आपने कब
मोड़ पर नाजुक झुकाव आ गया है
#
अब हुकूमत की हमें बस लग चुकी लत
सच लगे हम बेचने भाव आ गया है
#
खुश रहा लादेन अपने पैर चल के
बस पुतिन के मिलते ठहराव आ गया है
#
सुशील यादव
न्यू आदर्श नगर दुर्ग (छ.ग.)
susyadav7@gmail.com

142 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अच्छा इंसान
अच्छा इंसान
Dr fauzia Naseem shad
ये फुर्कत का आलम भी देखिए,
ये फुर्कत का आलम भी देखिए,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पितर
पितर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सारथी
सारथी
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
वक़्त बदल रहा है, कायनात में आती जाती हसीनाएँ बदल रही हैं पर
वक़्त बदल रहा है, कायनात में आती जाती हसीनाएँ बदल रही हैं पर
Sukoon
धरा की प्यास पर कुंडलियां
धरा की प्यास पर कुंडलियां
Ram Krishan Rastogi
पल का मलाल
पल का मलाल
Punam Pande
दोहा
दोहा
sushil sarna
यही जिंदगी
यही जिंदगी
Neeraj Agarwal
प्रस्तुति : ताटक छंद
प्रस्तुति : ताटक छंद
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
मंहगाई  को वश में जो शासक
मंहगाई को वश में जो शासक
DrLakshman Jha Parimal
2681.*पूर्णिका*
2681.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीने की वजह हो तुम
जीने की वजह हो तुम
Surya Barman
सिय का जन्म उदार / माता सीता को समर्पित नवगीत
सिय का जन्म उदार / माता सीता को समर्पित नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिल्ली चलें सब साथ
दिल्ली चलें सब साथ
नूरफातिमा खातून नूरी
यकीन
यकीन
Dr. Kishan tandon kranti
"फ़िर से आज तुम्हारी याद आई"
Lohit Tamta
पिता,वो बरगद है जिसकी हर डाली परबच्चों का झूला है
पिता,वो बरगद है जिसकी हर डाली परबच्चों का झूला है
शेखर सिंह
अपने-अपने चक्कर में,
अपने-अपने चक्कर में,
Dr. Man Mohan Krishna
औरत
औरत
Shweta Soni
“ज़िंदगी अगर किताब होती”
“ज़िंदगी अगर किताब होती”
पंकज कुमार कर्ण
सच्चे देशभक्त ‘ लाला लाजपत राय ’
सच्चे देशभक्त ‘ लाला लाजपत राय ’
कवि रमेशराज
बड़े ही फक्र से बनाया है
बड़े ही फक्र से बनाया है
VINOD CHAUHAN
#सामयिक_कविता
#सामयिक_कविता
*प्रणय प्रभात*
।। धन तेरस ।।
।। धन तेरस ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
तुम्हारा घर से चला जाना
तुम्हारा घर से चला जाना
Dheerja Sharma
*भारत नेपाल सम्बन्ध*
*भारत नेपाल सम्बन्ध*
Dushyant Kumar
प्यार या प्रतिशोध में
प्यार या प्रतिशोध में
Keshav kishor Kumar
अ'ज़ीम शायर उबैदुल्ला अलीम
अ'ज़ीम शायर उबैदुल्ला अलीम
Shyam Sundar Subramanian
★गहने ★
★गहने ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
Loading...