Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2023 · 1 min read

💐Prodigy Love-39💐

Oh Dear!
Oragnised behaviour,s standard is depend on true love.
Particularly,here,there is a need of grit.
Grit is behaviour other side.
Or if we say it the image of behaviour, nothing is more.
Because,grit needs reverence.
It heralds prudent way of a person.
By which,a human can change his circumstances.
Or he has to bear the negetive effect.
This effect should end the dependency.
Therefore, circumstances become easy.
You can accept other deeds.
Overall,in above excerpt,true love has it,s own power.
In this time,if we avoid someone in its feeling.
Nothing is wrong.
If we respect someone.
And we leave someone .
In this,it is true
Oh Dear!
©®Abhishek Parashar “Aanand”

63 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
💐अज्ञात के प्रति-116💐
💐अज्ञात के प्रति-116💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुझसें में क्या उम्मीद करू कोई ,ऐ खुदा
तुझसें में क्या उम्मीद करू कोई ,ऐ खुदा
Sonu sugandh
सियासत हो
सियासत हो
Vishal babu (vishu)
"म्हारी छोरियां छोरों से कम हैं के"
Abdul Raqueeb Nomani
खता मंजूर नहीं ।
खता मंजूर नहीं ।
Buddha Prakash
अगर सक्सेज चाहते हो तो रुककर पीछे देखना छोड़ दो - दिनेश शुक्
अगर सक्सेज चाहते हो तो रुककर पीछे देखना छोड़ दो - दिनेश शुक्
dks.lhp
👌एक न एक दिन👌
👌एक न एक दिन👌
*Author प्रणय प्रभात*
Kagaj ki nav ban gyi mai
Kagaj ki nav ban gyi mai
Sakshi Tripathi
अति आत्मविश्वास
अति आत्मविश्वास
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
है एक डोर
है एक डोर
Ranjana Verma
गजल
गजल
Anil Mishra Prahari
हमनवां जब साथ
हमनवां जब साथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
🌾☘️वनस्पति जीवाश्म☘️🌾
🌾☘️वनस्पति जीवाश्म☘️🌾
Ms.Ankit Halke jha
*खाते कम हैं फेंकते, ज्यादा हैं कुछ लोग  (कुंडलिया)*
*खाते कम हैं फेंकते, ज्यादा हैं कुछ लोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आपाधापी व्यस्त बहुत हैं दफ़्तर  में  व्यापार में ।
आपाधापी व्यस्त बहुत हैं दफ़्तर में व्यापार में ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
*बोल*
*बोल*
Dushyant Kumar
आँसू
आँसू
जगदीश लववंशी
खुद पर यकीं
खुद पर यकीं
Satish Srijan
"लड़कर जीना"
Dr. Kishan tandon kranti
मच्छर
मच्छर
लक्ष्मी सिंह
हम ख़्वाब की तरह
हम ख़्वाब की तरह
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Magical world ☆☆☆
Magical world ☆☆☆
ASHISH KUMAR SINGH
अगर मेरी मोहब्बत का
अगर मेरी मोहब्बत का
श्याम सिंह बिष्ट
दिल से जुड़े रिश्ते
दिल से जुड़े रिश्ते
ruby kumari
बात है तो क्या बात है,
बात है तो क्या बात है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
बहुत कुछ जल रहा है अंदर मेरे
बहुत कुछ जल रहा है अंदर मेरे
डॉ. दीपक मेवाती
तेरा सहारा
तेरा सहारा
Er Sanjay Shrivastava
नियोजित शिक्षक का भविष्य
नियोजित शिक्षक का भविष्य
Sahil
अपना ख़याल तुम रखना
अपना ख़याल तुम रखना
Shivkumar Bilagrami
Loading...