Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Apr 2023 · 1 min read

Mere shaksiyat ki kitab se ab ,

Mere shaksiyat ki kitab se ab ,
Mai tumhari shaksiyat padh liya karti hu.
Jab kbhi tumhe khone se dar lagta hai
To khud ko aayne me dekh liya karti hu .
Khud se agar khafa bhi ho tum to kya ,
Mai khud ko khud se, mana liya karti hu .
Tumhari sajisho ko samjh nahi payi to kya,
Tumhari ruh se wafadari aada karti hu.
Tum mere na ho sake ho kya hua,
Mai khud ko tumhare hawale karti hu .
Ek tumhara sath hi to nahi mila na mujhe,
Baki sab tumhara , mai tumse jayda rakhti hu.

2 Likes · 1 Comment · 406 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*कालरात्रि महाकाली
*कालरात्रि महाकाली"*
Shashi kala vyas
निभा गये चाणक्य सा,
निभा गये चाणक्य सा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
राम कहने से तर जाएगा
राम कहने से तर जाएगा
Vishnu Prasad 'panchotiya'
गुहार
गुहार
Sonam Puneet Dubey
खुद से मिल
खुद से मिल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
Rajesh Kumar Arjun
* सत्य पथ पर *
* सत्य पथ पर *
surenderpal vaidya
వీరుల స్వాత్యంత్ర అమృత మహోత్సవం
వీరుల స్వాత్యంత్ర అమృత మహోత్సవం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
*आँखों से  ना  दूर होती*
*आँखों से ना दूर होती*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
🍁🌹🖤🌹🍁
🍁🌹🖤🌹🍁
शेखर सिंह
मैं चाहती हूँ
मैं चाहती हूँ
Shweta Soni
खोखला अहं
खोखला अहं
Madhavi Srivastava
“जिंदगी की राह ”
“जिंदगी की राह ”
Yogendra Chaturwedi
गांधीवादी (व्यंग्य कविता)
गांधीवादी (व्यंग्य कविता)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2305.पूर्णिका
2305.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तज द्वेष
तज द्वेष
Neelam Sharma
मेरे अल्फाज याद रखना
मेरे अल्फाज याद रखना
VINOD CHAUHAN
बॉलीवुड का क्रैज़ी कमबैक रहा है यह साल - आलेख
बॉलीवुड का क्रैज़ी कमबैक रहा है यह साल - आलेख
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
भाईचारा
भाईचारा
Mukta Rashmi
हम तब तक किसी की प्रॉब्लम नहीं बनते..
हम तब तक किसी की प्रॉब्लम नहीं बनते..
Ravi Betulwala
मौसम  सुंदर   पावन  है, इस सावन का अब क्या कहना।
मौसम सुंदर पावन है, इस सावन का अब क्या कहना।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
टेढ़े-मेढ़े दांत वालीं
टेढ़े-मेढ़े दांत वालीं
The_dk_poetry
प्यार मेरा तू ही तो है।
प्यार मेरा तू ही तो है।
Buddha Prakash
■दोहा■
■दोहा■
*Author प्रणय प्रभात*
बुंदेली दोहा- जंट (मजबूत)
बुंदेली दोहा- जंट (मजबूत)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*वाल्मीकि आश्रम प्रभु आए (कुछ चौपाइयॉं)*
*वाल्मीकि आश्रम प्रभु आए (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
गीत।। रूमाल
गीत।। रूमाल
Shiva Awasthi
"भीमसार"
Dushyant Kumar
!! निरीह !!
!! निरीह !!
Chunnu Lal Gupta
पुतलों का देश
पुतलों का देश
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
Loading...