Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Aug 25, 2016 · 1 min read

जन्माष्टमी

जन्माष्टमी की बहुत बधाई

अंधियारे को चीर कर , करने को उजियारा
प्रकाश की किरणें फैलाने, आया बंसी वाला
मधुर तान बंसी की सुन कर, मोहित हुये सभी जन
दुखों के बादल बिखरा कर, लाया सुखद उजाला।

राह तकते बेबस होकर, आयें कब गोपाला
आस बँधायें आकर सबको, नर नारी और गवाला
तुम बिन कोई नहीं इस जगह मे ,नाथ तुम्हीं इस जग के
तुम संग गाऊँ तुम्हीं संग खेलूँ ,मेरे तुम नंद लाला।

उफनती यमुना काले बदरा, घनघोर घटा है छाये
सिर पर सूप में रख ललना को, नंद गाँव हैं ले जाये
वासुकी ने छाया की है, यमुना पाँव पखारे खूब
वासुदेव पानी में डूबे प्रभु को पार ले जाये है।

सूक्षम लता महाजन

150 Views
You may also like:
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पंचशील गीत
Buddha Prakash
बाबू जी
Anoop Sonsi
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
सही गलत का
Dr fauzia Naseem shad
अनामिका के विचार
Anamika Singh
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
काफ़िर का ईमाँ
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...