Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2017 · 1 min read

II…मैं आईने के सामने….II

पहले मैं था,जब, रब ने मिलाया आपसे l
आईना था सामने,मैं आईने के सामने ll

मैं हूं जाने कहां ,होश अब तक आया नहींl
मौत मन की हो गई ,जिंदगी मेरे सामने ll

संजय सिंह “सलिल”
प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश l

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Like · 1 Comment · 205 Views
You may also like:
यादों में तेरे रहना ख्वाबों में खो जाना
यादों में तेरे रहना ख्वाबों में खो जाना
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
💐अज्ञात के प्रति-57💐
💐अज्ञात के प्रति-57💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*छत्रपति वीर शिवाजी जय हो 【गीत】*
*छत्रपति वीर शिवाजी जय हो 【गीत】*
Ravi Prakash
मांग रहा हूँ जिनसे उत्तर...
मांग रहा हूँ जिनसे उत्तर...
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
सभी मां बाप को सादर समर्पित 🌹🙏
सभी मां बाप को सादर समर्पित 🌹🙏
सत्य कुमार प्रेमी
मेरे हमसफ़र
मेरे हमसफ़र
Shyam Sundar Subramanian
धूर अहा बरद छी (मैथिली व्यङ्ग्य कविता)
धूर अहा बरद छी (मैथिली व्यङ्ग्य कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
होली के रंग
होली के रंग
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दर्द है कि मिटता ही तो नही
दर्द है कि मिटता ही तो नही
Dr Rajiv
बुद्ध के विचारों की प्रासंगिकता
बुद्ध के विचारों की प्रासंगिकता
मनोज कर्ण
Writing Challenge- कला (Art)
Writing Challenge- कला (Art)
Sahityapedia
मैं हरि नाम जाप हूं।
मैं हरि नाम जाप हूं।
शक्ति राव मणि
Every morning, A teacher rises in me
Every morning, A teacher rises in me
Ankita Patel
“ एक अमर्यादित शब्द के बोलने से महानायक खलनायक बन जाते हैं ”
“ एक अमर्यादित शब्द के बोलने से महानायक खलनायक बन...
DrLakshman Jha Parimal
हर दुआ हमेशा और हर हाल में
हर दुआ हमेशा और हर हाल में
*Author प्रणय प्रभात*
✍️दूरियाँ वो भी सहता है ✍️
✍️दूरियाँ वो भी सहता है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
यादों की परछाइयां
यादों की परछाइयां
Shekhar Chandra Mitra
चम-चम चमके, गोरी गलिया, मिल खेले, सब सखियाँ
चम-चम चमके, गोरी गलिया, मिल खेले, सब सखियाँ
Er.Navaneet R Shandily
"अहसास"
Dr. Kishan tandon kranti
'ण' माने कुच्छ नहीं
'ण' माने कुच्छ नहीं
Satish Srijan
🤗🤗क्या खोजते हो दुनिता में  जब सब कुछ तेरे अन्दर है क्यों दे
🤗🤗क्या खोजते हो दुनिता में जब सब कुछ तेरे अन्दर...
Swati
उम्मीदों का सूरज
उम्मीदों का सूरज
Shoaib Khan
🇭🇺 युवकों का निर्माण चाहिए
🇭🇺 युवकों का निर्माण चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दर्द हमने ले लिया है।
दर्द हमने ले लिया है।
Taj Mohammad
यह धरती भी तो
यह धरती भी तो
gurudeenverma198
कितनी इस दर्द ने
कितनी इस दर्द ने
Dr fauzia Naseem shad
छंद में इनका ना हो, अभाव
छंद में इनका ना हो, अभाव
अरविन्द व्यास
इतनी सी बात पे
इतनी सी बात पे
Surinder blackpen
आंधियों से हम बुझे तो क्या दिए रोशन करेंगे
आंधियों से हम बुझे तो क्या दिए रोशन करेंगे
कवि दीपक बवेजा
वक़्त बे-वक़्त तुझे याद किया
वक़्त बे-वक़्त तुझे याद किया
Anis Shah
Loading...