Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2017 · 1 min read

II तेरे बिन दुनिया ……II

तेरी याद भी न बहलाए मुझे अब l
तेरे बिन दुनिया न भाए मुझे अब ll

रुलाने को दुनिया ही जब मुकम्मलl
तेरी याद फिर क्यों सताए मुझे अबll

जमाने से कह दो के कांटे बहुत हैंl
खुद ना चला वो बताए मुझे अब ll

कहां से मैं लाऊं अपनी हंसी फिर l
खुशी कोई ऐसी लुभाए मुझे अब ll

“सलिल” उम्र सारी ही जीना पड़ेगा l
जिंदगी जरा भी न भाए मझे अब ll

संजय सिंह “सलिल”
प्रतापगढ़ ,उत्तर प्रदेश l

242 Views
You may also like:
*नेता जी से रखिए दूरी (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*नेता जी से रखिए दूरी (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
🧑‍🎓My life simple life🧑‍⚖️
🧑‍🎓My life simple life🧑‍⚖️
Ankit Halke jha
शिव स्तुति
शिव स्तुति
मनोज कर्ण
■ कैसी कही...?
■ कैसी कही...?
*Author प्रणय प्रभात*
जिसमें सिमट जाती हैं
जिसमें सिमट जाती हैं
Dr fauzia Naseem shad
51-   सुहाना
51- सुहाना
Rambali Mishra
तितली थी मैं
तितली थी मैं
Saraswati Bajpai
बस रह जाएंगे ये जख्मों के निशां...
बस रह जाएंगे ये जख्मों के निशां...
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
जब जब ……
जब जब ……
Rekha Drolia
अनुरोध
अनुरोध
Rashmi Sanjay
💐💐प्रेम की राह पर-64💐💐
💐💐प्रेम की राह पर-64💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कुछ बातें जो अनकही हैं...
कुछ बातें जो अनकही हैं...
अमित कुमार
चालवाजी से तो अच्छा है
चालवाजी से तो अच्छा है
Satish Srijan
हरित वसुंधरा।
हरित वसुंधरा।
Anil Mishra Prahari
हिन्दू नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं।
हिन्दू नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं।
Nishant Kumar
★नज़र से नज़र मिला ★
★नज़र से नज़र मिला ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
* बहुत खुशहाल है साम्राज्य उसका
* बहुत खुशहाल है साम्राज्य उसका
Shubham Pandey (S P)
💐 मेरी तलाश💐
💐 मेरी तलाश💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक पत्रकार ( #हिन्दी_कविता)
एक पत्रकार ( #हिन्दी_कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
एक फूल की हत्या
एक फूल की हत्या
Minal Aggarwal
रैन बसेरा
रैन बसेरा
Shekhar Chandra Mitra
जनतंत्र में
जनतंत्र में
gurudeenverma198
लिप्सा
लिप्सा
Shyam Sundar Subramanian
हक
हक
shabina. Naaz
Tajposhi ki rasam  ho rhi hai
Tajposhi ki rasam ho rhi hai
Sakshi Tripathi
पर्वत
पर्वत
Rohit Kaushik
शरीफ यात्री
शरीफ यात्री
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सूरज उतरता देखकर कुंडी मत लगा लेना
सूरज उतरता देखकर कुंडी मत लगा लेना
कवि दीपक बवेजा
चिलचिलती धूप
चिलचिलती धूप
Nishant prakhar
‘वसुधैव कुटुम्बकम’ विश्व एक परिवार
‘वसुधैव कुटुम्बकम’ विश्व एक परिवार
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
Loading...