Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Feb 2017 · 1 min read

II कुछ आरजू ज्यादा न थी…II

कुछ आरजू ज्यादा न थी ए जिंदगी तुझसे मेरी l
फिर भी शिकायत कुछ नहीं ए जिंदगी तुझसे मेरी ll

कुछ भी मिला ना कुछ बचा ना भीड़ में चलते रहे l
क्या बात बिगड़ी किस जगह ए जिंदगी तुझसे मेरी ll

सब ख्वाब है अब भी अधूरे हैं बची सांसे भि कम l
बात बस दो चार दिन ऐ जिंदगी तुझसे मेरी ll

अब खोल दे खिड़की कोई आने भि दे कुछ रोशनी l
कुछ तो हो पहचान भी ए जिंदगी तुझसे मेरी ll

कुछ फर्ज भी अब पूरे हो कुछ मान भी तेरा ‘सलिल’l
अब आख़िरी है आरजू ए जिंदगी तुझसे मेरी ll

संजय सिंह ‘सलिल’
प्रतापगढ़ ,उत्तर प्रदेश ll

1 Comment · 266 Views
You may also like:
विषाद
विषाद
Saraswati Bajpai
ग़म नहीं अब किसी बात का
ग़म नहीं अब किसी बात का
Surinder blackpen
🧑‍🎓My life simple life🧑‍⚖️
🧑‍🎓My life simple life🧑‍⚖️
Ankit Halke jha
नाथू राम जरा बतलाओ
नाथू राम जरा बतलाओ
Satish Srijan
नाम बदल गया (लघुकथा)
नाम बदल गया (लघुकथा)
Ravi Prakash
रैन बसेरा
रैन बसेरा
Shekhar Chandra Mitra
बनारस की गलियों की शाम हो तुम।
बनारस की गलियों की शाम हो तुम।
Gouri tiwari
■ अफ़वाह गैंग : गुमराह जीव
■ अफ़वाह गैंग : गुमराह जीव
*Author प्रणय प्रभात*
ए रब मेरे मरने की खबर उस तक पहुंचा देना
ए रब मेरे मरने की खबर उस तक पहुंचा देना
श्याम सिंह बिष्ट
माँ दुर्गा।
माँ दुर्गा।
Anil Mishra Prahari
यह तो आदत है मेरी
यह तो आदत है मेरी
gurudeenverma198
बापू को क्यों मारा..
बापू को क्यों मारा..
पंकज कुमार कर्ण
छल प्रपंच का जाल
छल प्रपंच का जाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दामोदर लीला
दामोदर लीला
Pooja Singh
🦋🦋तुम रहनुमा बनो मेरे इश्क़ के🦋🦋
🦋🦋तुम रहनुमा बनो मेरे इश्क़ के🦋🦋
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गांधीजी के तीन बंदर
गांधीजी के तीन बंदर
मनोज कर्ण
दीपावली :दोहे
दीपावली :दोहे
Sushila Joshi
" राज संग दीपावली "
Dr Meenu Poonia
प्रणय-बंध
प्रणय-बंध
Rashmi Sanjay
नशा
नशा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
✍️इश्तिराक
✍️इश्तिराक
'अशांत' शेखर
*
*"वो दिन जो हम साथ गुजारे थे"*
Shashi kala vyas
सच ये है कि
सच ये है कि
मानक लाल"मनु"
” INDOLENCE VS STRENUOUS”
” INDOLENCE VS STRENUOUS”
DrLakshman Jha Parimal
हिन्दी हमारी शान है, हिन्दी हमारा मान है।
हिन्दी हमारी शान है, हिन्दी हमारा मान है।
Dushyant Kumar
तीर्थ यात्रा
तीर्थ यात्रा
विशाल शुक्ल
मानव मूल्य
मानव मूल्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेहनत
मेहनत
Anoop Kumar Mayank
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
कितनी महरूमियां रूलाती हैं
कितनी महरूमियां रूलाती हैं
Dr fauzia Naseem shad
Loading...