Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2023 · 1 min read

Hamko Chor Batane Wale – Poet Anurag Ankur’s Ghazal – कवि अनुराग अंकुर की गजल

संनाटे में साँस ले रहे , जी भर शोर मचाने वाले
खुद गठरी लेकर भागे हैं , हमको चोर बताने वाले

झूठ की रातें बीत गयीं,सच का सूरज चढ़ आया है
कितने अच्छे से सोये हैं खामो – खाह जगाने वाले

सूख गया मलबा जब सारा, कीड़ों जैसे सूख गये
खुद को दरिया बता रहे थे नाले में इतराने वाले

बात हुई जब किये धरे की पीछे भागे, खड़े हुए
खुद की जुबाँ सिले बैठे हैं, सबकी जुबाँ सिलाने वाले

इधर अटकती, उधर अटकती, गज़ल छटकती दिखती है
खुद को ग़ालिब समझ रहे थे, फ़र्ज़ी शेर सुनाने वाले

2 Likes · 213 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🙅नुमाइंदा_मिसरों_के_साथ
🙅नुमाइंदा_मिसरों_के_साथ
*प्रणय प्रभात*
यादों की किताब बंद करना कठिन है;
यादों की किताब बंद करना कठिन है;
Dr. Upasana Pandey
तुम नफरत करो
तुम नफरत करो
Harminder Kaur
नारी की शक्ति
नारी की शक्ति
Anamika Tiwari 'annpurna '
अगर एक बार तुम आ जाते
अगर एक बार तुम आ जाते
Ram Krishan Rastogi
मत भूल खुद को!
मत भूल खुद को!
Sueta Dutt Chaudhary Fiji
*स्वर्ग तुल्य सुन्दर सा है परिवार हमारा*
*स्वर्ग तुल्य सुन्दर सा है परिवार हमारा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
क्यों गुजरते हुए लम्हों को यूं रोका करें हम,
क्यों गुजरते हुए लम्हों को यूं रोका करें हम,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
यह हिन्दुस्तान हमारा है
यह हिन्दुस्तान हमारा है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मैं जी रहीं हूँ, क्योंकि अभी चंद साँसे शेष है।
मैं जी रहीं हूँ, क्योंकि अभी चंद साँसे शेष है।
लक्ष्मी सिंह
बढ़ी हैं दूरियां दिल की भले हम पास बैठे हैं।
बढ़ी हैं दूरियां दिल की भले हम पास बैठे हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
आदमी के नयन, न कुछ चयन कर सके
आदमी के नयन, न कुछ चयन कर सके
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मेरी हैसियत
मेरी हैसियत
आर एस आघात
चंद्रयान
चंद्रयान
Mukesh Kumar Sonkar
गीत
गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
एक छोटा सा दर्द भी व्यक्ति के जीवन को रद्द कर सकता है एक साध
एक छोटा सा दर्द भी व्यक्ति के जीवन को रद्द कर सकता है एक साध
Rj Anand Prajapati
"मीरा के प्रेम में विरह वेदना ऐसी थी"
Ekta chitrangini
माँ की अभिलाषा 🙏
माँ की अभिलाषा 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"आदत में ही"
Dr. Kishan tandon kranti
** अब मिटाओ दूरियां **
** अब मिटाओ दूरियां **
surenderpal vaidya
THE ANT
THE ANT
SURYA PRAKASH SHARMA
"अकेलापन"
Pushpraj Anant
Only attraction
Only attraction
Bidyadhar Mantry
चाटुकारिता
चाटुकारिता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अपने वीर जवान
अपने वीर जवान
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
3062.*पूर्णिका*
3062.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जनता नहीं बेचारी है --
जनता नहीं बेचारी है --
Seema Garg
स्वाभिमानी किसान
स्वाभिमानी किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जरा विचार कीजिए
जरा विचार कीजिए
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
एक ही बात याद रखो अपने जीवन में कि ...
एक ही बात याद रखो अपने जीवन में कि ...
Vinod Patel
Loading...