Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

ग़ज़ल – प्राण शर्मा

————-

रो रही है तक के अपनी बेबसी को

किनकी नज़रें लग गयी हैं सादगी को

+

दुख न हो उसको ये मुमकिन ही नहीं है

देख कर बिगड़ी पुरानी दोस्ती को

+

इक गिरे को जो उठा पायी नहीं है

लानतें सौ बार उस मर्दानगी को

+

देख लेना सबको भी प्यारी लगेगी

साफ़ – सुथरी रक्खोगे गर ज़िंदगी को

+

बाद में होते हैं नफ़रत से कई तंग

पहने ही क्यों `प्राण` वे इस हथकड़ी को

1 Like · 187 Views
You may also like:
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
गुरु वंदना
सोनी सिंह
अब तो ज़ख्मो से रिश्ता पुराना हुआ....
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
अस्फुट सजलता
Rashmi Sanjay
घर-घर में हो बाँसुरी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अनकहे अल्फाज़
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
सच ही तो है हर आंसू में एक कहानी है
VINOD KUMAR CHAUHAN
तुम्हारी चाय की प्याली / लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
बात क्या है जो नयन बहने लगे
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
*मनमोहन अब तो आ जाओ (भक्ति गीतिका)*
Ravi Prakash
पी रहा हूं मै नजरो से
Ram Krishan Rastogi
आजकल के अपने
Anamika Singh
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️शान से रहते है✍️
'अशांत' शेखर
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
लांगुरिया
Subhash Singhai
नवजीवन
AMRESH KUMAR VERMA
पहाड़ों की रानी
Shailendra Aseem
आखिरी पड़ाव
DESH RAJ
" मेरा वतन "
Dr Meenu Poonia
लोकमाता अहिल्याबाई होलकर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ज़मीर का सौदा
Shekhar Chandra Mitra
आलिंगन हो जानें दो।
Taj Mohammad
कृष्ण
Neelam Sharma
हम उन्हें कितना भी मनाले
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
💐💐सत्संगस्य महत्वम्💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दिल के मेयार पर
Dr fauzia Naseem shad
दुर्योधन कब मिट पाया :भाग:41
AJAY AMITABH SUMAN
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
Loading...