Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

ग़ज़ल – प्राण शर्मा

————-

रो रही है तक के अपनी बेबसी को

किनकी नज़रें लग गयी हैं सादगी को

+

दुख न हो उसको ये मुमकिन ही नहीं है

देख कर बिगड़ी पुरानी दोस्ती को

+

इक गिरे को जो उठा पायी नहीं है

लानतें सौ बार उस मर्दानगी को

+

देख लेना सबको भी प्यारी लगेगी

साफ़ – सुथरी रक्खोगे गर ज़िंदगी को

+

बाद में होते हैं नफ़रत से कई तंग

पहने ही क्यों `प्राण` वे इस हथकड़ी को

1 Like · 291 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मोहब्बत का वो तोहफ़ा मैंने संभाल कर रखा है
मोहब्बत का वो तोहफ़ा मैंने संभाल कर रखा है
Rekha khichi
मन का जादू
मन का जादू
Otteri Selvakumar
साड़ी हर नारी की शोभा
साड़ी हर नारी की शोभा
ओनिका सेतिया 'अनु '
मेरे दिल की हर इक वो खुशी बन गई
मेरे दिल की हर इक वो खुशी बन गई
कृष्णकांत गुर्जर
ईश्वर
ईश्वर
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
हमारा हाल अब उस तौलिए की तरह है बिल्कुल
हमारा हाल अब उस तौलिए की तरह है बिल्कुल
Johnny Ahmed 'क़ैस'
तुझे पाने की तलाश में...!
तुझे पाने की तलाश में...!
singh kunwar sarvendra vikram
आज आंखों में
आज आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
रास्ते है बड़े उलझे-उलझे
रास्ते है बड़े उलझे-उलझे
Buddha Prakash
🎂जन्मदिन की अनंत शुभकामनाये🎂
🎂जन्मदिन की अनंत शुभकामनाये🎂
Dr Manju Saini
18. कन्नौज
18. कन्नौज
Rajeev Dutta
कुछ तो होता है ना, जब प्यार होता है
कुछ तो होता है ना, जब प्यार होता है
Anil chobisa
My Guardian Angel
My Guardian Angel
Manisha Manjari
ज़रूरी था
ज़रूरी था
Shivkumar Bilagrami
बेटा
बेटा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हम समुंदर का है तेज, वह झरनों का निर्मल स्वर है
हम समुंदर का है तेज, वह झरनों का निर्मल स्वर है
Shubham Pandey (S P)
चाहने लग गए है लोग मुझको भी थोड़ा थोड़ा,
चाहने लग गए है लोग मुझको भी थोड़ा थोड़ा,
Vishal babu (vishu)
कभी धूप तो कभी बदली नज़र आयी,
कभी धूप तो कभी बदली नज़र आयी,
Rajesh Kumar Arjun
बड़ा मुश्किल है ये लम्हे,पल और दिन गुजारना
बड़ा मुश्किल है ये लम्हे,पल और दिन गुजारना
'अशांत' शेखर
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*पुष्प-मित्र रमेश कुमार जैन की कविताऍं*
*पुष्प-मित्र रमेश कुमार जैन की कविताऍं*
Ravi Prakash
तुम बिन जीना सीख लिया
तुम बिन जीना सीख लिया
Arti Bhadauria
■ निर्णय आपका...
■ निर्णय आपका...
*Author प्रणय प्रभात*
2460.पूर्णिका
2460.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मुहब्बत के शहर में कोई शराब लाया, कोई शबाब लाया,
मुहब्बत के शहर में कोई शराब लाया, कोई शबाब लाया,
डी. के. निवातिया
मुद्दतों बाद खुद की बात अपने दिल से की है
मुद्दतों बाद खुद की बात अपने दिल से की है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
क़िताबों से मुहब्बत कर तुझे ज़न्नत दिखा देंगी
क़िताबों से मुहब्बत कर तुझे ज़न्नत दिखा देंगी
आर.एस. 'प्रीतम'
"याद रहे"
Dr. Kishan tandon kranti
Ye sham adhuri lagti hai
Ye sham adhuri lagti hai
Sakshi Tripathi
अकेलापन
अकेलापन
Neeraj Agarwal
Loading...