Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Aug 2023 · 1 min read

#drarunkumarshastri♥️❤️

#drarunkumarshastri♥️❤️
संवेदना और सामवेदना में आधारभूत कोई अंतर नही ।
अपितु विषयानुगत मत्तेक्य हो सकता है। एक मानवीय स्वभाव है, दूसरा मानवीय गुण। ❤️❤️

454 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
2666.*पूर्णिका*
2666.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*माॅं की चाहत*
*माॅं की चाहत*
Harminder Kaur
(आखिर कौन हूं मैं )
(आखिर कौन हूं मैं )
Sonia Yadav
*मेरे सरकार आते हैं (सात शेर)*
*मेरे सरकार आते हैं (सात शेर)*
Ravi Prakash
मन मंदिर के कोने से 💺🌸👪
मन मंदिर के कोने से 💺🌸👪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पृष्ठों पर बांँध से बांँधी गई नारी सरिता
पृष्ठों पर बांँध से बांँधी गई नारी सरिता
Neelam Sharma
सत्य
सत्य
लक्ष्मी सिंह
पर्यावरण प्रतिभाग
पर्यावरण प्रतिभाग
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
होली आई रे
होली आई रे
Mukesh Kumar Sonkar
आज का युद्ध, ख़ुद के ही विरुद्ध है
आज का युद्ध, ख़ुद के ही विरुद्ध है
Sonam Puneet Dubey
मेरी (ग्राम) पीड़ा
मेरी (ग्राम) पीड़ा
Er.Navaneet R Shandily
मिट गई गर फितरत मेरी, जीवन को तरस जाओगे।
मिट गई गर फितरत मेरी, जीवन को तरस जाओगे।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गज़ल
गज़ल
सत्य कुमार प्रेमी
मैं घमंडी नहीं हूँ ना कभी घमंड किया हमने
मैं घमंडी नहीं हूँ ना कभी घमंड किया हमने
Dr. Man Mohan Krishna
■ आज का क़तआ (मुक्तक)
■ आज का क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
किसी ने आंखें बंद की,
किसी ने आंखें बंद की,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
नाथ सोनांचली
*झूठा  बिकता यूँ अख़बार है*
*झूठा बिकता यूँ अख़बार है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
नारी सम्मान
नारी सम्मान
Sanjay ' शून्य'
तन्हां जो छोड़ जाओगे तो...
तन्हां जो छोड़ जाओगे तो...
Srishty Bansal
खून पसीने में हो कर तर बैठ गया
खून पसीने में हो कर तर बैठ गया
अरशद रसूल बदायूंनी
देशभक्ति
देशभक्ति
पंकज कुमार कर्ण
-अपनी कैसे चलातें
-अपनी कैसे चलातें
Seema gupta,Alwar
रमेशराज के बालगीत
रमेशराज के बालगीत
कवि रमेशराज
"किताबें"
Dr. Kishan tandon kranti
समीक्ष्य कृति: बोल जमूरे! बोल
समीक्ष्य कृति: बोल जमूरे! बोल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आक्रोश प्रेम का
आक्रोश प्रेम का
भरत कुमार सोलंकी
होली
होली
नवीन जोशी 'नवल'
Dr. Arun Kumar shastri
Dr. Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हमें पता है कि तुम बुलाओगे नहीं
हमें पता है कि तुम बुलाओगे नहीं
VINOD CHAUHAN
Loading...