Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Apr 2024 · 1 min read

Dr Arun Kumar shastri

Dr Arun Kumar shastri

अच्छे दोस्त अचार की तरह होते हैं , चटपटे खट्टे मीठे।
आपकी जिन्दगी पर हावी नहीं होते हैं ।
बल्कि उसे रसीला और स्वादिष्ट बना देते हैं।
और इनकी सबसे खास बात ये सामने न रहते हुए भी हर पल साथ रहते हैं जरूरत के वक्त आ जाते हैं और तो और ये सालों तक खराब भी नहीं होते, क्योंकि इनका ब्रेकअप कभी सुना भी न होगा ।
😂

45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
प्रीतम के दोहे
प्रीतम के दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
तुम तो मुठ्ठी भर हो, तुम्हारा क्या, हम 140 करोड़ भारतीयों का भाग्य उलझ जाएगा
तुम तो मुठ्ठी भर हो, तुम्हारा क्या, हम 140 करोड़ भारतीयों का भाग्य उलझ जाएगा
Anand Kumar
बसंत
बसंत
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
शीर्षक:-कृपालु सदा पुरुषोत्तम राम।
शीर्षक:-कृपालु सदा पुरुषोत्तम राम।
Pratibha Pandey
जिंदगी
जिंदगी
Bodhisatva kastooriya
प्यार जताने के सभी,
प्यार जताने के सभी,
sushil sarna
दगा और बफा़
दगा और बफा़
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*दानवीर व्यापार-शिरोमणि, भामाशाह प्रणाम है (गीत)*
*दानवीर व्यापार-शिरोमणि, भामाशाह प्रणाम है (गीत)*
Ravi Prakash
बचपन मेरा..!
बचपन मेरा..!
भवेश
अपना मन
अपना मन
Neeraj Agarwal
मुराद
मुराद
Mamta Singh Devaa
*अम्मा*
*अम्मा*
Ashokatv
👉अगर तुम घन्टो तक उसकी ब्रेकअप स्टोरी बिना बोर हुए सुन लेते
👉अगर तुम घन्टो तक उसकी ब्रेकअप स्टोरी बिना बोर हुए सुन लेते
पूर्वार्थ
श्रीराम का पता
श्रीराम का पता
नन्दलाल सुथार "राही"
नारी कब होगी अत्याचारों से मुक्त?
नारी कब होगी अत्याचारों से मुक्त?
कवि रमेशराज
*सुनो माँ*
*सुनो माँ*
sudhir kumar
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
जगदीश शर्मा सहज
खोखला अहं
खोखला अहं
Madhavi Srivastava
कविता: जर्जर विद्यालय भवन की पीड़ा
कविता: जर्जर विद्यालय भवन की पीड़ा
Rajesh Kumar Arjun
कितना रोके मगर मुश्किल से निकल जाती है
कितना रोके मगर मुश्किल से निकल जाती है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
एक हमारे मन के भीतर
एक हमारे मन के भीतर
Suryakant Dwivedi
2669.*पूर्णिका*
2669.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जो कभी मिल ना सके ऐसी चाह मत करना।
जो कभी मिल ना सके ऐसी चाह मत करना।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
उसकी गली से गुजरा तो वो हर लम्हा याद आया
उसकी गली से गुजरा तो वो हर लम्हा याद आया
शिव प्रताप लोधी
मैं तो महज नीर हूँ
मैं तो महज नीर हूँ
VINOD CHAUHAN
क्रिसमस दिन भावे 🥀🙏
क्रिसमस दिन भावे 🥀🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
वक्त ए रूखसती पर उसने पीछे मुड़ के देखा था
वक्त ए रूखसती पर उसने पीछे मुड़ के देखा था
Shweta Soni
जीवन में,
जीवन में,
नेताम आर सी
बना चाँद का उड़न खटोला
बना चाँद का उड़न खटोला
Vedha Singh
Loading...