Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jun 2023 · 1 min read

Converse with the powers

Converse with the powers
Of the Universe around,
Let the energy flow , and
You will be left, spellbound!!

Dhriti

213 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dhriti Mishra
View all
You may also like:
इल्म
इल्म
Bodhisatva kastooriya
दोहा -स्वागत
दोहा -स्वागत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मुझे लगता था
मुझे लगता था
ruby kumari
#एक_विचार
#एक_विचार
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी आंखों ने कुछ कहा होगा
मेरी आंखों ने कुछ कहा होगा
Dr fauzia Naseem shad
3383⚘ *पूर्णिका* ⚘
3383⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
संस्कृति
संस्कृति
Abhijeet
संवेदनाओं में है नई गुनगुनाहट
संवेदनाओं में है नई गुनगुनाहट
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जय जय दुर्गा माता
जय जय दुर्गा माता
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
31 जुलाई और दो सितारे (प्रेमचन्द, रफ़ी पर विशेष)
31 जुलाई और दो सितारे (प्रेमचन्द, रफ़ी पर विशेष)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
माफ़ कर दे कका
माफ़ कर दे कका
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*फ़र्ज*
*फ़र्ज*
Harminder Kaur
"धीरे-धीरे"
Dr. Kishan tandon kranti
मस्ती का माहौल है,
मस्ती का माहौल है,
sushil sarna
चुप्पी और गुस्से का वर्णभेद / मुसाफ़िर बैठा
चुप्पी और गुस्से का वर्णभेद / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
Right now I'm quite notorious ,
Right now I'm quite notorious ,
Sukoon
*क्रुद्ध हुए अध्यात्म-भूमि के, पर्वत प्रश्न उठाते (हिंदी गजल
*क्रुद्ध हुए अध्यात्म-भूमि के, पर्वत प्रश्न उठाते (हिंदी गजल
Ravi Prakash
if you love me you will get love for sure.
if you love me you will get love for sure.
पूर्वार्थ
नशा और युवा
नशा और युवा
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
अब रिश्तों का व्यापार यहां बखूबी चलता है
अब रिश्तों का व्यापार यहां बखूबी चलता है
Pramila sultan
घिरी घटा घन साँवरी, हुई दिवस में रैन।
घिरी घटा घन साँवरी, हुई दिवस में रैन।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*गोल- गोल*
*गोल- गोल*
Dushyant Kumar
सम पर रहना
सम पर रहना
Punam Pande
“जगत जननी: नारी”
“जगत जननी: नारी”
Swara Kumari arya
फिर झूठे सपने लोगों को दिखा दिया ,
फिर झूठे सपने लोगों को दिखा दिया ,
DrLakshman Jha Parimal
दृढ़
दृढ़
Sanjay ' शून्य'
क्या पता मैं शून्य न हो जाऊं
क्या पता मैं शून्य न हो जाऊं
The_dk_poetry
ਕਿਸਾਨੀ ਸੰਘਰਸ਼
ਕਿਸਾਨੀ ਸੰਘਰਸ਼
Surinder blackpen
कठिन समय रहता नहीं
कठिन समय रहता नहीं
Atul "Krishn"
Loading...